ताज़ा खबर
 

विधानसभा पटल पर विधायक ने कहा- भगवान विष्णु का अवतार थीं जयललिता

विधायक मरियप्पन ने इस मुद्दे पर बहस के दौरान भगवान विष्णु के दस अवतारों का नाम गिनाया और कहा कि अम्मा विष्णु की 11वीं अवतार थीं।

तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता (EXPRESS FILE PHOTO)

तमिलनाडु में नेताओं को भगवान जैसा पूजने की प्रथा रही है। लेकिन इस राज्य के एक विधायक ने अब पूर्व मुख्यमंत्री और AIADMK की पूर्व सुप्रीमो जयललिता को भगवान का अवतार ही घोषित कर दिया है। AIADMK मरियप्पन कैनेडी ने ये बयान तमिलनाडु विधानसभा के पटल पर दिया है। तमिलनाडु विधानसभा में उच्च शिक्षा के लिए अनुदान पर चर्चा के दौरान विधायक ने ये बयान दिया। विधायक मरियप्पन ने इस मुद्दे पर बहस के दौरान भगवान विष्णु के दस अवतारों का नाम गिनाया और कहा कि अम्मा विष्णु की 11वीं अवतार थीं। इसके बाद इस विधायक ने जेल में बंद शशिकला को जयललिता का वास्तविक उत्तराधिकारी बताया। विधायक महोदय यहीं नहीं रुके उन्होंने शशिकला के भतीजे टीटीवी दिनाकरण की प्रशंसा में गीत गाये और उन्हें पार्टी का भविष्य बताया। शशिकला जयललिता की पूर्व सहयोगी रह चुकी हैं, और इन आय से अधिक संपत्ति के मामले में दोषी करार दिये जाने पर जेल में बंद हैं।

HOT DEALS
  • Apple iPhone SE 32 GB Gold
    ₹ 19959 MRP ₹ 26000 -23%
    ₹0 Cashback
  • Coolpad Cool C1 C103 64 GB (Gold)
    ₹ 11290 MRP ₹ 15999 -29%
    ₹1129 Cashback

इससे पहले भी कई बार जयललिता को तमिलनाडु की राजनीति में सुपर नैचुरल पॉवर का दर्जा दिया जा चुका है। जयललिता की मौत के बाद नेताओं ने अपने फायदे के लिए उन्हें कई विशेषणों से नवाजा। जयललिता की मौत के बाद वी के शशिकला जब पहली बार पार्टी की महासचिव बनी तो उन्होंने अपने पहले भाषण में कहा था कि जयललिता की आत्मा उन्हें रोज कहती हैं कि मैने तुम्हें 1.5 करोड़ लोगों की जिम्मेदारी सौंपी है।

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के दौरान भी जयललिता को उनके नेताओं ने देवी के रुप में पेश किया था। जयललिता कुछ फिल्मों में भी देवी का किरदार निभा चुकी हैं। बता दें कि जयललिता की मौत के बाद उनका उत्तराधिकारी कौन होगा इस पर सूबे में जबर्दस्त वर्चस्व की लड़ाई चली। पूर्व सीएम ओ पन्नीरसेल्वम ने शशिकला से बगावत कर उनके आदेशों को मानने से इनकार कर दिया। इसके बाद शशिकला कैंप ने उन्हें सीएम पद से हटाकर पलानीस्वामी को सीएम बनाया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App