ताज़ा खबर
 

मंदिर दर्शन करने पहुंची नन, बीजेपी संग अन्य हिंदू संगठनों ने पुलिस में दर्ज करवा दी शिकायत

भाजपा नेताओं और हिन्दू संगठन के कार्य​कर्ताओं ने ये मुकदमा श्रीरंगनाथ स्वामी मंदिर के प्रबंधन के खिलाफ दर्ज करवाया है। दरअसल इन संगठनों की ये शिकायत है कि मंदिर प्रबंधन ने अपनी परंपरागत पोशाक पहनकर केरल के कॉन्वेंट की नन को मन्दिर परिसर में प्रवेश करने दिया।

श्रीरंगनाथ स्‍वामी का मंदिर तमिलनाडु के सबसे भव्‍य मन्दिरों में से एक माना जाता है। फोटो- Shrirangam.org

भाजपा और कुछ हिन्दू संगठनों ने शुक्रवार (11 मई) को तमिलनाडु के श्रीरंगम पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज करवाया है। भाजपा नेताओं और हिन्दू संगठन के कार्य​कर्ताओं ने ये मुकदमा श्रीरंगनाथ स्वामी मंदिर के प्रबंधन के खिलाफ दर्ज करवाया है। दरअसल इन संगठनों की ये शिकायत है कि मंदिर प्रबंधन ने अपनी परंपरागत पोशाक में केरल के एक कॉन्वेंट की नन को मन्दिर परिसर में प्रवेश करने दिया। उनका आरोप है कि इससे श्रद्धालुओं की भावनाएं आहत हुई हैं।

मामला बीते शुक्रवार का है। इस दिन केरल से कुछ पर्यटक ​तमिलनाडु में घूमने के लिए आए थे। इन पर्यटकों के ग्रुप में धार्मिक पोशाक पहने हुए कुछ नन भी शामिल थीं। हिन्दू संगठनों का आरोप है कि धार्मिक पोशाक पहनकर नन के समूह ने मन्दिर में प्रवेश किया है। इससे हिन्दू समाज की धार्मिक भावनाओं को चोट पहुंची है। बता दें कि इस मन्दिर की सुरक्षा के लिए भारी तादाद में पुलिसकर्मी तैनात रहते हैं, जबकि मन्दिर परिसर में बड़ी संख्या में सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं।

धार्मिक पोशाक पहनकर नन के समूह के मन्दिर में प्रवेश करने के खिलाफ भाजपा कार्यकर्ता और हिन्दूवादी संगठन मुखर हो उठे हैं। दोनों ने इस संबंध में एक साझा शिकायत श्रीरंगम के सहायक पुलिस आयुक्त के पास इस संबंध में शिकायत दर्ज करवाई है। इस शिकायत में भाजपा की प्रदेश कार्यकारिणी के महासचिव सेतु, विश्व हिंदू परिषद के प्रतिनिधि अरविंद और अन्य कार्यकर्ता, हिंदू अल्या मीतपु इयक्क्म और अनाइथू हिंदू इयक्क्म के प्रतिनिधियों ने हस्ताक्षर किए हैं।

बता दें कि श्रीरंगनाथ मन्दिर तमिलनाडु के हिन्दू श्रद्धालुओं की आस्था का महत्वपूर्ण केन्द्र है। इस मन्दिर की स्थानीय हिन्दू समुदाय में बड़ी भारी मान्यता और आस्था जुड़ी हुई है। इस मन्दिर में किसी भी अन्य धर्म के श्रद्धालु का प्रवेश वर्जित माना जाता है। केरल से पर्यटकों के समूह के साथ आए नन के समूह ने धार्मिक पोशाक पहनकर मन्दिर में प्रवेश किया। हालांकि ननों का समूह सिर्फ 1000 खंभों वाले मंडप के निकट परिक्रमा पथ तक ही प्रवेश पा सका। लेकिन नन के समूह ने मन्दिर के मुख्य गर्भगृह संनिधि में प्रवेश नहीं किया। फिलहाल शिकायत मिलने के बाद पुलिस अभी जांच में जुटी हुई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App