ताज़ा खबर
 

27 साल बाद एआईएडीएमके को मिला दूसरा महासचिव, जयललिता की जगह लेंगी शशिकला

1989 से पार्टी के महासचिव पद की जिम्मेदारी जे. जयललिता निभा रही थीं।

जे जयललिता (दाएं) के साथ शशिकला नटराजन (PTI फाइल फोटो)

जे. जयललिता की मौत के एक सप्ताह बाद ही एआईएडीएमके ने घोषणा की है कि शशिकला नटराजन पार्टी में उनकी जगह लेंगी। अब शशिकला पार्टी का नेतृत्व करेंगी। पार्टी के प्रवक्ता सी पोन्नैयन के हवाले से न्यूज एजेंसी एएनआई ने लिखा है, ‘शशिकला को पार्टी का अगला महासचिव बनाए जाएगा। इसकी घोषणा जल्द ही की जाएगी।’ इससे पहले पार्टी प्रवक्ता पोन्नैयन ने कहा था कि पूरी पार्टी की इच्छा है कि शशिकला पार्टी की महासचिव बनें। बता दें, 1989 के बाद पार्टी को नया महासचिव मिला है। इससे पहले इस पद पर जे. जयललिता थीं।

बता दें, जयललिता की करीबी शशिकला को पार्टी की महासचिव बनाने की चर्चा पहले से ही है। पार्टी ने कहा था कि शशिकला को जल्द ही पार्टी का अगला महासचिव चुन लिया जाएगा। मीडिया में भी इसको लेकर काफी चर्चा थीं।

वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक तमिलनाडु की दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता की भतीजी दीपा जयकुमार ने भी राजनीति में आने की इच्छा जताई है। साथ ही उन्होंने इच्छा जाहिर की है कि वे एआईएडीएमके पार्टी में शामिल होना चाहती हैं। 42 साल की दीपा ने शनिवार को कई इंटरव्यू देकर यह साफ कर दिया कि वो राजनीति में आने को उत्सुक हैं। दीपा ने कहा, ‘अगर लोग चाहेंगे तो मैं तैयार हूं।’ हालांकि उन्होंने कहा कि उन्हें किसी बड़ी राजनीतिक शक्ति का आशीर्वाद प्राप्त नहीं है। उन्होंने कहा, ‘पार्टी से न तो किसी ने संपर्क किया है और न ही किसी का सहयोग मिला है।’ उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि लोगों का समर्थन उन्हें जल्द मिलेगा।

उन्होंने इंटरव्यू के दौरान अपनी बुआ की मौत से जुड़े कई सवाल भी पूछे। दीपा ने कहा, ‘मैं अपनी बुआ जयललिता से मिलने अपोलो अस्पताल दो महीने में 25 बार गई लेकिन मुझे क्यों नहीं मिलने दिया गया? उन्हें क्या हुआ था, डॉक्टर किस बीमारी का इलाज कर रहे थे?’ दीपा ने कहा कि उन्हें इसमें साजिश नजर आ रही है। दीपा ने कहा कि उन्होंने अपनी बुआ से मिलने की बहुत कोशिश की लेकिन उन्हें जान बूझकर मिलने नहीं दिया गया। यहां तक कि उन्होंने जयललिता को खत भी लिखे लेकिन वो खत उनतक नहीं पहुंच सके।’

जयललिता की तरह दिखने वाली दीपा जयकुमार जयललिता के भाई जयकुमार की बेटी हैं। उनके एक भाई भी हैं जिनका नाम दीपक जयकुमार है। दीपक भी कई बार अस्पताल में बुआ से मिलने की कोशिश कर चुके हैं लेकिन नहीं मिल सके। हालांकि जयललिता के अंतिम संस्कार में दीपक को शशिकला नटराजन के साथ शामिल किया गया था। दीपक को अंतिम संस्कार में देखने पर दीपा चौंक गई थीं।

वीडियो में देखें- कौन हैं जयललिता की करीब शशिकला, जानिए 5 मुख्य बातें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App