ताज़ा खबर
 

कर्ज लेकर किया था पति का अंतिम संस्कार, नहीं चुका पाई तो 10 साल के बेटे को बना दिया बंधुआ मजदूर

महिला ने अपने पति के अंतिम संस्कार के लिए मकान मालिक से पैसे उधार लिए थे। उसके पति की जनवरी में गाजा चक्रवात के चलते मौत हो गई थी।

मजबूर मां ने बेटे को बनाया बंधुआ मजदूर (प्रतीकात्मक तस्वीर- रॉयटर्स)

तमिलनाडु में बंधुआ मजदूर के तौर पर काम कर रहे 10 साल के एक बच्चे को रेस्क्यू करने की बात सामने आई है। बुधवार को तंजावुर जिले में एक एनजीओ ने प्रशासन को बच्चे की जानकारी दी थी। प्राप्त जानकारी के मुताबिक एक महिला ने 36 हजार रुपए का कर्ज न चुका पाने के चलते बेटे को वहां भेज दिया था। बताया जा रहा है कि महिला ने अपने पति के अंतिम संस्कार के लिए मकान मालिक से पैसे उधार लिए थे। उसके पति की जनवरी में गाजा चक्रवात के चलते मौत हो गई थी।

चक्रवात के बाद बंधुआ मजदूरी का दूसरा मामलाः बच्चे को फिलहाल तंजावुर के बाल गृह में रखा गया है। उसे राहत-पुनर्वास राशि के रूप में दो लाख रुपए भी मिलेंगे। तमिलनाडु के तटीय इलाकों में चक्रवात के बाद बंधुआ मजदूरी का यह दूसरा मामला सामने आया है। तंजावुर जिला प्रशासन ने बच्चे का बैंक अकाउंट खुलवाकर उसमें दो लाख रुपए जमा किए जाएंगे। इसके साथ ही बच्चे को इंसाफ दिलाने के लिए आरोपी मकान मालिक के खिलाफ केस भी दर्ज किया जाएगा।

 

सिर्फ एक कटोरी दलिया और 200 बकरियों का जिम्मा: एनजीओ के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक पांचवी कक्षा के बाद पढ़ाई छोड़ने वाले इस बच्चे के जिम्मे 200 बकरियों की दिन-रात देखभाल करने का काम था। इसके बदले उसे घाने के लिए सिर्फ एक कटोरी दलिया मिलता था। उसके पास रहने के लिए छत तक नहीं थी। इस संबंध में बच्चे की मां की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई है। बताया जा रहा है कि जिस शख्स को बच्चा सौंपा गया था उसका नाम पी महालिंगम है और वह भी फरार चल रहा है।

Next Stories
1 पति की तीसरी शादी से नाराज थी दूसरी पत्नी, सौतेली बेटियों के साथ मिलकर नई दुल्हन को मारा
2 कांग्रेस नेता ने कहा- पुलवामा हमले के पीछे कहीं मोदी-इमरान की मैच फिक्सिंग तो नहीं है?
3 Jammu Blast: सामने आया चश्मदीद, बताया बस स्टैंड पर हुए ग्रेनेड ब्लास्ट का मंजर
ये पढ़ा क्या?
X