ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र: चर्च पर पथराव, प्रार्थना करने गए ईसाइयों पर तलवारों, सरिया, बोतलों से हमला

हमले के वक्त वहीं मौजूद बेंजामिन दुत्नी ने बताया, 'हमलावर जिस वक्त वहां से निकले तब उन्होंने हिंदी में हमें धमकाते हुए कहा कि अगले रविवार से चर्च में कोई दिखाई नहीं देना चाहिए।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

क्रिसमस से दो दिन पहले महाराष्ट्र के एक चर्च में प्रार्थना कर रहे ईसाइयों पर बीयर की बोतले से हमला किया। खबर के मुताबिक रविवार (23 दिसंबर, 2018) के दिन 40 ईसाई चर्च की प्रार्थना में भागे लेने के पहुंचे मगर उनपर तलवार, लोहे सरिया और बोलतों से हमला कर दिया गया। घटना कोल्हापुर के न्यू लाइफ फेलोशिप चर्च की है। यह मुंबई से करीब 474 किलोमीटर दूर और कर्नाटक बॉर्डर के करीब है। जानना चाहिए कि घायल लोगों को कर्नाटक स्थित बेलगाम के दो हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है, जो कि घटना स्थल से करीब बीस किलो मीटर दूर है। खबर लिखे जाने तक चार आईसीयू में भर्ती है। सोमवार को हमले में बुरी तरह घायल हुए बीस साल के सचिन बागड़े के ब्रेन से खून का थक्का हटाया गया है।

खबर के मुताबिक क्रिसमस से दो दिन पहले चर्च में सुबह करीब साढ़े दस बजे प्रार्थना शुरू हुई और इसके 45 मिनट बाद वहां हमला हो गया। एक पीड़िता अंजुम मुट्टेकर ने बताया, ‘करीब 15-20 लोग बाइक पर आए। उनके पास लोहे की रॉड और तलवार जैसे हथियार थे। पहले उन्होंने चर्च की इमारत पर पत्थर फेंके और अंदर घुस गए।’ एक पीड़ित अमित भोसले कहते हैं, ‘उन लोगों ने हम पर हमला करने से पहले धर्म परिवर्तन का कार्यक्रम आयोजित करने का आरोप लगाया। करीब आधे घंटे तक हम पर हमला होता रहा। पुलिस आई तो हमलावर वहां से भाग गए।’

हमले के वक्त वहीं मौजूद बेंजामिन दुत्नी ने बताया, ‘हमलावर जिस वक्त वहां से निकले तब उन्होंने हिंदी में हमें धमकाते हुए कहा कि अगले रविवार से चर्च में कोई दिखाई नहीं देना चाहिए।’ उत्पीड़न राहत के संस्थापक शिबू थॉमस का दावा है कि देशभर में इस साल चर्च में प्रार्थना के दौरान ऐसे 445 हमले हो चुके हैं। पिछले ढाई सालों में ऐसी 1,300 शिकायतें दर्ज की जा चुकी हैं। उन्होंने कहा कि हालांकि इस चर्च में पिछले 21 सालों से इसी तरह से प्रार्थना होती रही है लेकिन कभी किसी तरह की शिकायत नहीं मिली।

वहीं घटना की जांच कर रहे एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि सोमवार तक किसी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। मामले में जांच चल रही है।

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई
Next Stories
1 नसीरुद्दीन के बयान पर बोले अनुपम खेर- क्या जवानों पर पत्थर फेंकने से भी ज्यादा आजादी चाहिए?
2 बीजेपी का सर्वे: श‍िवसेना के साथ लड़े तो 11 तक घट सकती हैं सीटें, अकेले में आठ तक का घाटा
3 महाराष्ट्र: युवक ने बंदूक दिखाने के दौरान गलती से चला दी गोली, दोस्त अस्पताल में भर्ती
आज का राशिफल
X