ताज़ा खबर
 

‘विज्ञापन पर 30 लाख, छात्रों को सिर्फ 3 लाख’

शिक्षा के क्षेत्र में केजरीवाल सरकार की ओर से किए गए लंबे-चौड़े दावों की पोल खोलते हुए स्वराज इंडिया ने दावा किया है कि आप सरकार ने छात्र ऋण योजना के लिए विज्ञापनों पर 30 लाख रुपए खर्च किए, लेकिन पिछले साल दिसंबर तक केवल तीन छात्रों को 3.15 लाख रुपए मिले।

Author नई दिल्ली | January 22, 2017 2:11 AM
योगेंद्र यादव। ( File Photo)

शिक्षा के क्षेत्र में केजरीवाल सरकार की ओर से किए गए लंबे-चौड़े दावों की पोल खोलते हुए स्वराज इंडिया ने दावा किया है कि आप सरकार ने छात्र ऋण योजना के लिए विज्ञापनों पर 30 लाख रुपए खर्च किए, लेकिन पिछले साल दिसंबर तक केवल तीन छात्रों को 3.15 लाख रुपए मिले। उच्च शिक्षा और कौशल गारंटी योजना दिल्ली सरकार का फ्लैगशिप कार्यक्रम है।
शनिवार को एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए योगेंद्र यादव ने कहा कि शिक्षा बजट को दोगुना करना भी एक ‘मिथक’ है क्योंकि आंकड़े अलग कहानी बयां करते हैं और राष्ट्रीय राजधानी में स्कूलों व कॉलेजों की संख्या में गिरावट आई है, जो दिल्ली सरकार की ओर से किए गए दावों के विपरीत है।यादव ने कहा, ‘(पिछले डेढ़ वर्षों में) 30 दिसंबर 2016 तक इस योजना के तहत 405 आवेदकों में से 97 छात्रों को कर्ज दिया गया। इनमें से दिल्ली सरकार ने सिर्फ तीन कर्ज दिए जो महज 3.15 लाख रुपए है। बाकी सारे कर्जों का वित्तपोषण केंद्र सरकार की योजना के जरिए किया गया।’ यादव ने कहा, ‘अपने पहले ही साल (2015-16) में सरकार ने 30 लाख रुपए से अधिक विज्ञापन पर खर्च किया।’
यादव ने दावा किया कि यह सूचना आरटीआइ और दिल्ली सरकार के आधिकारिक दस्तावेज से हासिल की गई। वहीं आम आदमी पार्टी ने यादव के आरोपों पर प्रतिक्रिया देने से मना कर दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App