ताज़ा खबर
 

लड़की ने काट डाला था प्राइवेट पार्ट, ठीक होने के बाद बोले स्वामी- जीसस क्राइस्ट जैसी मेरी किस्मत

स्वामी ने कहा, "मुझे तिरुवनंतपुरम मेडिकल कॉलेज ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने लिंग के कटे हुए भाग पर टांका लगाया, इसके बाद दो सर्जरी की गई।" स्वामी का इलाज करने वाले आर विजयन ने कहा कि अब वह आराम से पेशाब कर सकते हैं और उनका लिंग सामान्य काम करेगा।

19 मई 2017 को हुए हमले के बाद अस्पताल में भर्ती गंगेशनंदा तिर्थपाड़ा उर्फ हरीस्वामी (फाइल फोटो)

केरल के स्वामी गणेशनंदा ने कहा है कि अब वो पूरी तरह से ठीक हो गये हैं। स्वामी गणेशनंदा पर एक युवती ने हमला किया था और आरोप है कि उसने उनका लिंग काट दिया था। बुधवार (28 मार्च) को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि अब वह एक सामान्य व्यक्ति जैसे हैं। गणेशनंदा जो श्रीहरी के नाम से भी जाने जाते हैं ने कहा कि वह आठ महीने तक तीसरे जेंडर का इंसान रहने के बाद अब स्वस्थ हो गये हैं। बता दें कि पिछले साल 19 मई को एक 23 साल की एक लड़की ने स्वामी पर बलात्कर का आरोप लगाया था और उनके लिंग काट दिये थे।

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक स्वामी गणेश नंदा ने कहा कि दिसंबर 2017 के बाद उनपर किये जा रहे इलाज और सर्जरी का असर हुआ है। उन्होंने कहा, “मुझे तिरुवनंतपुरम मेडिकल कॉलेज ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने लिंग के कटे हुए भाग पर टांका लगाया, इसके बाद दो सर्जरी की गई।” स्वामी का इलाज करने वाले आर विजयन ने कहा कि अब वह आराम से पेशाब कर सकते हैं और उनका लिंग सामान्य काम करेगा।

हालांकि इस दौरान स्वामी गणेशनंदा ने केस पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि उनकी किस्मत जीसस क्राइस्ट जैसी थी जिन्हें उनके अपने लोगों ने धोखा दिया था। गणेशनंदा ने कहा, “मैं केस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दूंगा, मैंने कुछ लोगों की मदद की, और वही लोग इस घटना के पीछे हैं, मेरी किस्मत जीसस क्राइस्ट जैसी है, जिन्हें उन्हीं लोगों ने धोखा दिया जो उनके करीब थे, यदि मैं दोषी हूं तो इसे कोर्ट और भगवान के सामने साबित होने दीजिए, यदि मैं गलत हुआ तो सजा भुगतने को तैयार हूं।” स्वामी गणेशनंदा ने कहा कि जिन लोगों ने मुझ पर हमला किया सबको मैंने माफ कर दिया है, मुझे कोई शिकायत नहीं है।” स्वामी गणेशनंदा के मुताबिक जब मेडिकल कॉलेज में वह भर्ती हुए थे तो उनपर सवालों की बौछार कर दी गई थी। उन्होंने कहा कि लोगों के संदेश को दूर करने में और सवालों का जवाब देने में वक्त लग जाएगा, लेकिन मैं अपना काम जल्द शुरू करना चाहता था। उन्होंने कहा कि वह उस दौरान बेहद दुख से गुजर रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App