ताज़ा खबर
 

यूपी: स्वामी रामभद्राचार्य की कार से टकरा गया आवारा सांड, सीएम योगी को लगा दिया फोन

सीएम तक बात पहुंची तो उनका कार्यालय भी सक्रिय हो गया। मुख्यमंत्री कार्यालय से स्थानीय जिला प्रशासन को घटना की जानकारी दी गई उर उन्हें तत्काल मौके पर पहुंचने को कहा गया।
जगतगुरु रामानंदाचार्य स्वामी रामभद्राचार्य।

शुक्रवार को जगतगुरु रामानंदाचार्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज की कार से एक सांड के टकरा जाने के बाद स्थानीय प्रशासन में हंगामा मच गया। स्वामी रामभद्राचार्य यूपी के कन्नौज जिले में एक कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे थे। स्वामी रामभद्राचार्य की कार देर रात आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर आवारा सांड से टकरा गई। हादसे के बाद जगतगुरु रामानंदाचार्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज ने प्रदेश के मुख्यमंत्री को फोन कर दिया और अपने साथ हुए इस हादसे की सूचना दी। सीएम तक बात पहुंची तो उनका कार्यालय भी सक्रिय हो गया। मुख्यमंत्री कार्यालय से स्थानीय जिला प्रशासन को घटना की जानकारी दी गई उर उन्हें तत्काल मौके पर पहुंचने को कहा गया। खबर मिलते ही SDM छिबरामऊ सीओ सर्किल समेत कई अधिकारी मौके पर पहुंचे। स्वामी रामभद्राचार्य को वहां पहुंचे अधिकारियों ने दूसरी गाड़ी की व्यवस्था कर उन्हें कन्नौज भिजवाया। क्षतिग्रस्त वाहन को क्रेन से आगरा भिजवाया गया।

बता दें कि किसी तरह से कन्नौज पहुंचे स्वामी रामभद्राचार्य के एक बयान शनिवार दिनभर सुर्खियों में रहा। यहां पत्रकारों ने पूछा कि वह भविष्यावाणी के लिए जाने जाते हैं, ऐसे में वह देश के अगले प्रधानमंत्री के तौर पर किसे देखते हैं? इस पर जगद्गुरु ने कहा कि मोदी ही प्रधानमंत्री बनेंगे। उन्होंने पीएम मोदी को अच्छा बताया। बता दें कि जगद्गुरु रामानंदाचार्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज चित्रकूट के तुलसी पीठ के संस्थापक हैं और चित्रकूट स्थित जगद्गुरु रामभद्राचार्य हैंडीकैप्ड यूनिवर्सिटी के आजीवन चांसलर हैं। जगद्गुरु की दो महीने की आयु में ही आखों की रौशनी चली गई थी। कहा जाता है कि वह 22 भाषाओं के ज्ञाता है और संस्कृत, हिंदी, अवधि और मैथिली समेत कई भाषाओं में लेखन कर चुके हैं। उनकी गिनती नैसर्गिक कवियों में भी होती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App