ताज़ा खबर
 

बीजेपी से बगावत कर चुके सांसद ने शेयर की तेजस्वी यादव के साथ अपनी फोटो, बताया ‘वंडरब्वॉय’

पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद की मुलाकात पटना एयरपोर्ट पर तेजस्वी यादव से हुई, जहां बीजेपी से निलंबित सांसद और उनकी पत्नी ने तेजस्वी के साथ फोटो खिंचवाई। इसी फोटो को ट्विटर पर शेयर करते वक्त कीर्ति ने तेजस्वी को बिहार का वंडरब्वॉय बताया।

तेजस्वी यादव और कीर्ति आजाद (फोटो सोर्स- एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

बीजेपी से निलंबित और बिहार के दरभंगा से सांसद कीर्ति आजाद ने राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता तेजस्वी यादव की जमकर तारीफ की है। बीजेपी से बगावत कर चुके कीर्ति आजाद ने तेजस्वी के साथ एक तस्वीर शेयर करते हुए उन्हें वंडरब्वॉय बताया है। हाल ही में पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद की मुलाकात पटना एयरपोर्ट पर तेजस्वी यादव से हुई, जहां बीजेपी से निलंबित सांसद और उनकी पत्नी ने तेजस्वी के साथ फोटो खिंचवाई। इसी फोटो को ट्विटर पर शेयर करते वक्त कीर्ति ने तेजस्वी को बिहार का वंडरब्वॉय बताया। उन्होंने लिखा, ‘पटना एयरपोर्ट के वेटिंग रूम में बिहार के वंडरब्वॉय तेजस्वी यादव से मुलाकात हुई और साथ में दिल्ली तक के लिए उड़ान भरी। मेरी पत्नी पूनम भी साथ में थीं।’ जो तस्वीर शेयर की गई है उसमें कीर्ति तेजस्वी के गले में हाथ डालकर बैठे हुए दिख रहे हैं। वहीं दूसरी ओर कीर्ति की पत्नी भी बैठी दिख रही हैं।

आपको बता दें कि कीर्ति आजाद को बीजेपी और वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ बोलने के कारण पार्टी से साल 2015 में निलंबित कर दिया गया था। 2015 में आजाद ने दिल्ली में क्रिकेट के भ्रष्टाचार का खुलासा किया था और जेटली पर निशाना साधते हुए कहा था कि जिस वक्त डीडीसीए में घोटाला हुआ था, उस वक्त जेटली ही एसोसिएशन के अध्यक्ष थे। पार्टी लाइन से अलग जाकर बोलने के कारण बीजेपी से आजाद को निलंबित कर दिया गया था। कीर्ति आजाद लगातार ही बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व की आलोचना करते रहते हैं।

इसके अलावा उन्होंने हाल ही में अरविंद केजरीवाल पर मानहानि केस में अरुण जेटली से माफी मांग लेने के कारण जमकर निशाना साधा था। आजाद ने आम आदमी पार्टी के प्रमुख केजरीवाल पर तीखी टिप्पणी करते हुए उन्हें कायर कहा था। कीर्ति ने ट्वीट कर कहा था, ‘अरविंद केजरीवाल कायर हैं। लेकिन, मैं अपनी बातों पर अब भी कायम हूं कि 400 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा अरुण जेटली के ही प्रबंधन में हुआ था। सीरियस फ्रॉड इन्वेस्टिगेशन ऑफिस, हाई कोर्ट द्वारा नियुक्त प्रशासक की ओर से किया गया फॉरेंसिक ऑडिट और सीबीआई द्वारा डीडीसीए अधिकारियों को दिया गया नोटिस इस ओर इशारा करते हैं। बकरे की मां कब तक खैर मनाएगी।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App