ताज़ा खबर
 

ट्रेनों में पानी भरने वाले ही यात्रियों को बनाते थे निशाना, 5 दिन में की 94 हजार की चोरी

पिछले एक महीने में सूरत रेलवे स्टेशन पर खड़ी ट्रेनों में लगातार चोरी की ख़बरें आ रही थी। जिनमें एसी, स्लीपर कोच में 20 से अधिक चोरियां हुई थी।

तस्वीर का प्रयोग प्रतीक के तौर पर किया गया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

सूरत रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ की टीम ने तीन शातिर चोरों को धर दबोचा। पुलिस की गिरफ्त में आये ये चोर सूरत रेलवे स्टेशन पर खड़ी ट्रेनों में पानी भरने वाले है। आरोप है कि इन तीनों ने बीते 5 दिनों में यात्रियों के गहने, नकदी, घड़ी, मोबाइल समेत करीब 94000 रूपये की चोरी की है। फिलहाल इन्हे जीआरपी के हवाले कर दिया गया है। इन तीनों का नाम विनोद पाटनी, सुनील वसावा और मनीष सोलंकी है जोकि ठेकेदार कंपनी प्रभाकर इंटर प्राइजेज के कर्मचारी बताये जा रहे है।

बता दें कि पिछले एक महीने में सूरत रेलवे स्टेशन पर खड़ी ट्रेनों में लगातार चोरी की ख़बरें आ रही थी। जिनमे एसी, स्लीपर कोच में 20 से अधिक चोरियां हुई थी। ठेकेदार पर आरोप है कि उसने चोरी में पकडे़ गए तीन लोगों को पुलिस वेरिफिकेशन के बिना ही नौकरी पर रखा था। ये लोग ट्रेनों में पानी भरने का काम करते थे। पकडे गए आरोपियों ने बताया कि उन्होंने पिछले 5 दिनों में विरार शटल और बेंगलुरु गांधीधाम से करीब 94000 रूपये की चोरी की वारदात को अंजाम दिया। पुलिस के अनुसार अधिकतर मामले ट्रेन के प्लेटफॉर्म पर खड़े होने के दौरान हुए है।

बेंगलुरु-गांधीधाम एक्सप्रेस के एस 1 कोच में सीट नंबर 62 पर विवेक नाम के यात्री का मोबाइल गुम होने के बाद उसने आरपीएफ से शिकायत की। जिसके बाद एसआई गजेंद्र सिंह ने टीम के साथ सूरत स्टेशन पर पेट्रोलिंग शुरू कर दी। इस दौरान तीन संदिग्ध पकड़े गये। जब तीनों से पूछताछ हुई तो पता चला ये ट्रेनों में पानी भरने वाले ठेकेदार प्रभाकर इंटरप्राइजेज के कर्मचारी है जोकि चोरी की घटना को अंजाम दे रहे थे।

पकडे गए तीनों आरोपियों ने चोरी की बात कबूल ली है। इनके पास से 78000 रूपये कीमत के मोबाइल बरामद हुए है। जबकि 13500 रूपये नकद मिले है। बताया जा रहा है कि ट्रेन में पानी भरने के दौरान जब कोई यात्री सोता हुआ मिलता था तो ये लोग उसका सामान चोरी करते थे। फिलहाल अब ये पुलिस की गिरफ्त में है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App