ताज़ा खबर
 

सुनंदा पुष्कर हत्याकांड: ‘अगले कुछ दिनों’ में शशि थरूर से होगी पूछताछ

दिल्ली के पुलिस आयुक्त बी एस बस्सी ने आज कहा कि कांग्रेस सांसद शशि थरूर से उनकी पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत के संबंध में ‘‘अगले कुछ दिनों’’ में पूछताछ किए जाने की संभावना है। 17 जनवरी को होटल के जिस कमरे में सुनंदा मृत पायी गयी थीं, उसमें सबूतों से छेड़छाड़ किए जाने की […]

Author January 12, 2015 4:14 PM
दिल्ली पुलिस ने सुनंदा की मौत के मामले में इस साल एक जनवरी को हत्या का मामला दर्ज किया था

दिल्ली के पुलिस आयुक्त बी एस बस्सी ने आज कहा कि कांग्रेस सांसद शशि थरूर से उनकी पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत के संबंध में ‘‘अगले कुछ दिनों’’ में पूछताछ किए जाने की संभावना है।

17 जनवरी को होटल के जिस कमरे में सुनंदा मृत पायी गयी थीं, उसमें सबूतों से छेड़छाड़ किए जाने की मीडिया रिपोर्ट के बारे में सवाल किए जाने पर बस्सी ने कहा, ‘‘इन आरोपों का कोई आधार नहीं है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पता है कि वह (थरूर) दिल्ली आ गए हैं। हमारी जांच जारी है और यह अगले कुछ एक दिनों में संभव है या जब भी एसआईटी उचित समझेगी, वे उनसे पूछताछ करेंगे।’’

पुलिस प्रमुख ने पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार से पूछताछ किए जाने की संभावना से इंकार नहीं किया और कहा कि यदि एसआईटी को कुछ जरूरी लगता है तो ‘‘उसकी अनदेखी नहीं की जाएगी।’’ बस्सी ने कहा कि सुनंदा के विसरा के नमूनों को अभी तक विदेश नहीं भेजा गया है।

गौरतलब है कि 51 वर्षीय सुनंदा को 17 जनवरी 2014 की रात को दक्षिणी दिल्ली के एक पंचतारा होटल के कमरे में मृत पाया गया था। इससे एक दिन पूर्व सुनंदा की माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर थरूर के साथ कथित संबंध को लेकर तरार से तकरार हुई थी ।

सुनंदा के विसरा नमूनों को उनकी मौत का कारण बने जहर की प्रकृति और मात्रा के निर्धारण के मकसद से जांच के लिए अमेरिका या ब्रिटेन में विदेशी प्रयोगशाला में भेजा जाना है। बस्सी ने कहा, ‘‘इसे भेजा जाएगा, एक बार प्रक्रिया पूरी हो जाए तो इसे भेजा जाएगा।’’

इस सवाल पर कि क्या पुलिस आईपीएल क्रिकेट लीग कोण से भी मामले की पड़ताल कर रही है, पुलिस प्रमुख ने कहा, ‘‘जब आप किसी मामले की जांच कर रहे हैं तो आप हमेशा परिस्थितियों, पृष्ठभूमि और हर उस चीज को देखते हैं जो मामले पर प्रकाश डाल सके। हम हमेशा इन पहलुओं पर देखते हैं। जो भी जरूरी होगा, एसआईटी करेगी।’’

बस्सी ने कहा कि उन्होंने अभी जांच शुरू की है और जांच जोरशोर से जारी है लेकिन तुरंत किसी निर्णय पर पहुंचना संभव नहीं है। उन्होंने कहा,‘‘मैं आपको दो तीन दिन में बता सकूंगा। इस समय मैं आपको केवल यही बता सकता हूं कि हमारी जांच जोरशोर से जारी है और हम जल्द से जल्द किसी तार्किक नतीजे पर पहुंचना चाहते हैं।’’

जांच में देरी के आरोपों के संबंध में सवाल किए जाने पर बस्सी ने कहा, ‘‘हम सौभाग्यशाली हैं कि हम जो भी करते हैं, हमें उसमें पारदर्शी होना पड़ता है क्योंकि हमारे काम की परीक्षा अभियोजन, अदालत के न्यायिक अधिकारी और बचाव पक्ष लेते हैं। इसलिए हम गलती करना गवारा नहीं कर सकते।’’

उन्होंने साथ ही कहा, ‘‘मुझे पक्का भरोसा है कि जब भी हमारी जांच पूरी हो जाएगी, किसी को कोई शक नहीं रहेगा।’’
बस्सी को लिखे गए पत्र में थरूर द्वारा लगाए गए आरोपों के जवाब में पुलिस प्रमुख ने कहा कि उन्होंने शीर्ष स्तर पर पूछ-ताछ की और ऐसा कुछ नहीं पाया गया। बताया जाता है कि थरूर ने बस्सी को लिखे पत्र में दिल्ली पुलिस पर आरोप लगाया था कि वह उनके घरेलू नौकर को ‘‘बार बार शारीरिक रूप से प्रताड़ित कर रही है और धमका रही है’’ ताकि वह यह कुबूल करे कि उन दोनों (नौकर और थरूर) ने मिलकर सुनंदा की हत्या की थी।

बस्सी ने कहा, ‘‘ मैं आपको यह बताना चाहूंगा कि लगाए गए आरोप सही नहीं हैं।’’ उन्होंने यह भी कहा कि वह अभी तक पूछताछ के दायरे में आए लोगों की सही संख्या नहीं बता सकते। पुलिस प्रमुख ने कहा, ‘‘लेकिन चाहे कुछ भी हो, जिसका भी इस मामले से कुछ लेना देना है या कोई भी सबूत मामले को लेकर प्रासंगिक है, उसे एकत्र किया जाएगा और एसआईटी ये कर रही है।’’

मामले में प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पुलिस से सवाल करते हुए कांग्रेस सांसद थरूर द्वारा बस्सी को भेजे गए ताजा ईमेल के बारे में पूछे जाने पर पुलिस प्रमुख ने कहा कि उन्होंने अभी तक इस ईमेल का जवाब नहीं दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘हर किसी को अपने विचार व्यक्त करने का अधिकार है। हमें यह सुनिश्चित करना है कि हम गुण दोष के आधार पर काम करें और जल्द से जल्द हम जांच पूरी करने की कोशिश करते हैं।’’

दिल्ली पुलिस ने बीते मंगलवार को सुनंदा की मौत के मामले में एम्स की मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत हत्या संबंधी प्राथमिकी दर्ज की है। मेडिकल रिपोर्ट में कहा गया है कि सुनंदा की मौत अप्राकृतिक है और जहर से हुई थी। मामले की नए सिरे से जांच करने के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का भी गठन किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X