ताज़ा खबर
 

चंडीगढ़ से शुरू हुई पहली अंतरराष्ट्रीय उड़ान: शारजाह गए सुखबीर बादल, अमरिंदर सिंह बोले-‘वापस मत आना’

मनोहर लाल खट्टर ने सरकारी विज्ञापनों में चंडीगढ़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट का नाम मोहाली अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट लिखने पर विरोध जताया है।

Author चंडीगढ़ | September 16, 2016 12:36 PM
चंडीगढ़ अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से गुरूवार को विदेशी उड़ान शुरू हो गई। सुखबीर बादल ने शारजाह के लिए पहली उड़ान भरी।

पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखबीर बादल ने गुरूवार को चंडीगढ़ अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से शारजाह के लिए पहली विदेशी उड़ान भरी। उनके साथ चंडीगढ़ हवाई अड्डे से शरजाह के लिए उड़ान भरने वाली एयर इंडिया की पहली इंटरनेशनल फ्लाइट में आठ मंत्रियों और अफसरों का दल भी शामिल था। सीआईआई के 18 और मोहाली इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के 5 सदस्य भी इस पहली इंटरनेशनल फ्लाइट का हिस्सा बने। पंजाब सरकार ने उप मुख्यमंत्री सुखबीर बादल और उनके साथ गए प्रतिनिधिमंडल की इस यात्रा को दुबई से कारोबारी रिश्ते मज़बूत करने के लिए उठाया गया कदम बताया है।

वहीं, विपक्ष ने इसे जनता के पैसे कि फ़िज़ूल खर्ची करार देते हुए सरकार पर जोरदार हमला किया है। जब इस यात्रा के संबंध में पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष कैप्टन अमरिंदर सिंह से पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘विदेश यात्राओं पर जाना उप मुख्यमंत्री की आदत में शुमार है, हर बार वह वापस लौट आते हैं, इस बार वहीं रुक क्यों नहीं जाते।’ हालांकि, अमरिंदर सिंह के इस बयान पर सुखबीर बादल ने कहा, ‘मुझे नहीं समझ आता इसमें कैसी राजनीति होनी चाहिए। हम दुबई में निवेशकों के साथ बैठक करने जा रहे हैं। हम ‘फ्लाई दुबई’ और ‘एमीरेट्स’ एविएशन जैसी कंपनियों से मिलकर उन्हें चंडीगढ़ से अपनी उड़ाने शुरू करने के लिए कहेंगे।’

इस बीच हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल को ख़त लिखकर सरकारी विज्ञापनों में चंडीगढ़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट का नाम मोहाली अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट लिखने पर अपना विरोध जताया है। पत्र में लिखा गया है कि गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय फ़्लाइट के उद्घाटन के मौक़े पर हवाई अड्डे को मोहाली अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बताया गया जबकि अभी तक केंद्र सरकार ने एयरपोर्ट का नाम तय नहीं किया है। खट्टर ने पत्र में लिखा है कि चंडीगढ़ एयरपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय बनाने के लिए जो ख़र्च आया उसका पचास फ़ीसदी केंद्र सरकार और बाक़ी हिस्सा पंजाब और हरियाणा सरकारों ने बराबर-बराबर दिया था, इस लिहाज़ से दोनों राज्यों का एयरपोर्ट पर समान हक़ बनता है।

Read Also: यूपी: और भड़की यादव परिवार में लगी आग, मुलायम ने अमर सिंह को फोन कर कहा- हद में रहेंं

गौरलतलब है कि पिछले साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चंडीगढ़ अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का उद्घाटन किए जाने के बाद से ही पंजाब और हरियाणा सरकारों के बीच एयरपोर्ट के नाम को लेकर खींचतान चल रही है। पंजाब सरकार हवाई अड्डे का नाम शहीद भगत सिंह के नाम पर तो हरियाणा सरकार बीजेपी नेता डॉक्टर मंगल सैन के नाम पर रखना चाहती हैं। केंद्र सरकार ने फ़िलहाल इसे चंडीगढ़ अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा नाम ही दे रखा है।

Read Also: फर्ज़ी डिग्री विवाद: स्मृति ईरानी को तलब करने पर एक अक्तूबर को फैसला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App