scorecardresearch

स्‍टूडेंट ने देखी असिस्‍टेंट प्रोफेसर की इंस्‍टा पर बिकिनी में तस्‍वीर, पेरेंट्स ने शिकायत की तो यूनिवर्सिटी ने नौकरी छोड़ने को किया मजबूर    

मामले में यूनिवर्सिटी प्रशासन ने इस बात से इंकार किया कि महिला प्रोफेसर को इस्तीफा देने के लिए बाध्य किया गया है। उनका कहना है कि उन्होंने स्वेच्छा से इस्तीफा दिया है। उन पर किसी तरह का कोई दबाव नहीं था।

स्‍टूडेंट ने देखी असिस्‍टेंट प्रोफेसर की इंस्‍टा पर बिकिनी में तस्‍वीर, पेरेंट्स ने शिकायत की तो यूनिवर्सिटी ने नौकरी छोड़ने को किया मजबूर    

कोलकाता के प्रतिष्ठित सेंट जैवियर यूनिवर्सिटी की एक पूर्व सहायक महिला प्रोफेसर ने आरोप लगाया है कि एक पैरेंट्स की शिकायत के बाद उन्हें इस्तीफा देने के लिए विवश किया गया। प्रोफेसर का आरोप है पिछले साल इंस्टाग्राम पर बिकनी में उनकी तस्वीरें स्नातक प्रथम वर्ष का एक छात्र देख रहा था। उसके पिता ने उसे ऐसा करते हुए देखा तो यूनिवर्सिटी में कुलपति और अन्य अफसरों से शिकायत कर दी। इसके बाद यूनिवर्सिटी ने उन्हें इस्तीफा देने के लिए बाध्य किया। हालांकि यूनिवर्सिटी ने बाध्य करने जैसी बात से इंकार किया है।

लिखित शिकायत में माता-पिता का कहना था कि उन्होंने अपने बेटे को यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर की तस्वीरों को देखते हुए पकड़ा था, जिसमें “आपत्तिजनक”, “अशिष्ट” और “नग्नता” झलक रही थी।

किसी ने सोशल मीडिया उस पत्र को शेयर किया तो मामला खुल गया। पत्र में लिखा, “हाल ही में मैं अपने बेटे को प्रोफेसर की कुछ तस्वीरों को देखते हुए देखकर हैरान रह गया था, जहां उन्होंने जानबूझकर सार्वजनिक रूप से अश्लील प्रदर्शन करते दिख रही थीं। अपने अंडरगारमेंट्स पहने एक शिक्षिका को सोशल मीडिया पर तस्वीरें अपलोड करते हुए देखना मेरे लिए एक अभिभावक के रूप में बेहद शर्मनाक है। मैंने अपने बेटे को इस तरह की घोर अभद्रता और महिला शरीर के उपभोग की वस्तु जैसा देखने से बचाने की कोशिश की है। 18 वर्षीय छात्र को अपने प्रोफेसर को इस तरह देखना अश्लील, खराब और अनुचित कार्य है।”

महिला प्रोफेसर ने कहा- इंस्टाग्राम को किसी ने हैक किया

महिला प्रोफेसर ने अपने बचाव में कहा था कि किसी ने उसके इंस्टाग्राम को हैक कर उसकी निजी तस्वीरें निकाली हैं और उसे लीक कर वायरल किया है। उनका यह भी कहना है कि उन्हें इसके बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई कि उनकी तस्वीरें कैसे मिलीं। यूनिवर्सिटी ने उन्हें पैरेंट्स के पत्र और कुछ तस्वीरें देकर इस्तीफा देने के लिए कहा था।

मीडिया सूत्रों के मुताबिक इस मामले में यूनिवर्सिटी प्रशासन ने इस बात से इंकार किया कि महिला प्रोफेसर को इस्तीफा देने के लिए बाध्य किया गया है। उनका कहना है कि उन्होंने स्वेच्छा से इस्तीफा दिया है। उन पर किसी तरह का कोई दबाव नहीं था।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.