State President Kamal Nath on Chief Minister Shivraj Singh, said Madhya Pradesh has become a bad state- नाबालिग से दुष्कर्म मामले पर कांग्रेस ने साधा निशाना, कहा- शिवराज सिंह के राज में दुष्कर्म प्रदेश बना मध्यप्रदेश - Jansatta
ताज़ा खबर
 

नाबालिग से दुष्कर्म मामले पर कांग्रेस ने साधा निशाना, कहा- शिवराज सिंह के राज में दुष्कर्म प्रदेश बना मध्यप्रदेश

कमलनाथ ने कहा कि एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार मध्यप्रदेश दुष्कर्म में देश में अव्वल है। बच्चों के अपहरण और यौन शोषण के मामले में प्रदेश तीसरे नंबर पर है। महिलाओं पर यौन हिंसा को लेकर किए गए हमले और उन्हें अपमानित करने में भी मध्यप्रदेश तीसरे नंबर पर है।

Author May 12, 2018 12:55 AM
शिवराज सिंह चौहान (file photo)

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह के विधानसभा क्षेत्र में नाबालिग के साथ दुष्कर्म के बाद जिंदा जलाकर हत्या किए जाने पर कांग्रेस ने राज्य सरकार पर जोरदार हमला बोला है। प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के कार्यकाल में मध्यप्रदेश दुष्कर्म प्रदेश बन चुका है। उन्होंने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा कि गृह मंत्री भूपेन्द्र सिंह के विधानसभा क्षेत्र खुरई के बांदरी में नाबालिग लड़की से दुष्कर्म के बाद उसे जला देने की घटना से दुष्कर्म प्रदेश में एक कड़ी और जुड़ गई है।

कमलनाथ ने कहा है कि इस घटना से सभी का सिर शर्म से झुक गया है। मुख्यमंत्री किस मुंह से महिलाओं की सुरक्षा की बात करते हैं। दु:ख तो इस बात का है इस तरह की घटनाओं के बाद मुख्यमंत्री आश्चर्यजनक रूप से चुप रहते हैं। उन्हें जनता को स्पष्ट करना चाहिए कि दुष्कर्म की घटनाओं को रोकने के लिए उन्होंने कौन से ठोस कदम उठाए हैं।

कमलनाथ ने कहा कि एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार मध्यप्रदेश दुष्कर्म में देश में अव्वल है। बच्चों के अपहरण और यौन शोषण के मामले में प्रदेश तीसरे नंबर पर है। महिलाओं पर यौन हिंसा को लेकर किए गए हमले और उन्हें अपमानित करने में भी मध्यप्रदेश तीसरे नंबर पर है। औसतन हर दिन महिलाओं के साथ 13 अनाचार के मामले प्रदेश में हो रहे हैं। पिछले एक साल में 5300 ज्यादती की घटनाएं हुई हैं। कमलनाथ ने कहा कि यह शर्मनाक आंकड़ा छूने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है, लेकिन शिवराज ‘मामा’ पर कोई असर नहीं हो रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App