scorecardresearch

Hate Speech case: सपा के दिग्गज आजम खान को 2019 के हेट स्पीच मामले में जमानत, CM योगी के खिलाफ की थी टिप्पणी

Azam Khan Bail News: साल 2019 के लोकसभा चुनाव प्रचार के आजम खान ने रामपुर के CM योगी आदित्यनाथ, PM नरेंद्र मोदी और कांग्रेस उम्मीदवार संजय कपूर के खिलाफ भड़काऊ टिप्पणी की थी।

Hate Speech case: सपा के दिग्गज आजम खान को 2019 के हेट स्पीच मामले में जमानत, CM योगी के खिलाफ की थी टिप्पणी
Azam Khan News: आजम खान को रामपुर सेशन कोर्ट से मिली जमानत (Photo- File)

Azam Khan Got Bail in Hate Speech Case: समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के दिग्गज नेता आजम खान (Azam Khan) को 2019 के हेट स्पीच मामले (Hate Speech Case) में रामपुर की सेशन कोर्ट (Rampur Session Court) ने नियमित जमानत (Bail) दे दी है। आजम पर आरोप था कि उन्होंने सीएम योगी (CM Yogi) के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी (Comment) की थी। इसी मामले में सजा के चलते आजम को विधायकी (Member of Legislative Assembly) से हाथ धोना पड़ा था। सेशन कोर्ट (Session court) से उनकी अपील खारिज होने के बाद चुनाव आयोग (Election Commission) ने आजम की रामपुर सीट (Rampur Seat) से उप चुनाव घोषित किया था।

सीएम योगी और डीएम आंजनेक के खिलाफ की थी टिप्पणी (Hate Speech against CM Yogi and DM Anjaney Kumar)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (UP CM Yogi Adityanath) और रामपुर के तत्कालीन जिलाधिकारी आंजनेय कुमार सिंह के खिलाफ कथित रूप से भड़काऊ टिप्पणी करने के आरोप में आजम खान के खिलाफ अप्रैल 2019 में रामपुर में केस दर्ज किया गया था। साल 2019 के लोकसभा चुनाव प्रचार के आजम खान ने रामपुर के तत्कालीन जिलाधिकारी आंजनेय कुमार सिंह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस उम्मीदवार संजय कपूर के खिलाफ भड़काऊ टिप्पणी की थी।

इस वजह से गई आजम खान (Azam Khan) की विधानसभा की सदस्यता (Membership of Assembly)

सुप्रीम कोर्ट के साल 2013 के फैसले के मुताबिक आजम खान को हेट स्पीच मामले में 3 साल की सजा होने के बाद उन्हें विधानसभा सदस्यता से हाथ धोना पड़ा। साल 2013 के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मुताबिक अगर कोई विधायक, एमएलसी या सांसद किसी आपराधिक मामले में दोषी ठहराया जाता है और कम से कम दो साल के लिए जेल जाता है तो वह तत्काल प्रभाव से सदन की सदस्यता खो देता है। इसी वजह से हेट स्पीच मामले में 3 साल की सजा के बाद आजम खान की विधानसभा सदस्यता खत्म हो गई। अब रामपुर सदर की विधानसभा सीट पर उपचुनाव होगा।

BJP ने इस कानून के तहत वोटर लिस्ट (Voter List) से आजम खान (Azam Khan) का नाम हटवाया

इससे पहले 18 नवंबर को बीजेपी (BJP) की ओर से रामपुर विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव के उम्मीदवार आकाश सक्सेना की शिकायत के बाद रामपुर में मतदाता सूची (Voter List) से उनका नाम हटा दिया गया था। 1950 और 1951 के जनप्रतिनिधित्व अधिनियम (RPA) के प्रावधानों को लागू करते हुए रामपुर निर्वाचक पंजीकरण अधिकारी (ERO) ने ये निर्णय लिया।

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आदेश पर मिली थी जमानत (Bail)

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आदेश के बाद कथित तौर पर धोखाधड़ी के एक मामले में अंतरिम जमानत (Interim Bail) दिए जाने के बाद इस साल की शुरुआत में खान को सीतापुर जेल से रिहा कर दिया गया था। सपा नेता पर भ्रष्टाचार और चोरी सहित 90 से अधिक आरोप हैं। आजम खान ने 1980 जनता पार्टी (सेक्युलर) (Janta Party S) के टिकट पर रामपुर का विधानसभा चुनाव (Assembly Election) जीतकर अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की थी। उन्होंने अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव दोनों सरकारों में मंत्री के रूप में कार्य किया है।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 22-11-2022 at 05:56:36 pm
अपडेट