ताज़ा खबर
 

बीमार मां से परेशान बेटे ने छत से धकेल कर की हत्या! सामने आया वीडियो

बचपन में जिसके आंचल ने उसे महफूज रखा, वही बेटा अपनी मां का कातिल बन बैठा।

इस तस्वीर का इस्तेमाल खबर के प्रस्तुतीकरण के लिए किया गया है।

बचपन में जिसके आंचल ने उसे महफूज रखा, वही बेटा अपनी मां का कातिल बन बैठा। कलयुगी बेटे ने अपनी मां को इसलिए मौत के घाट उतार दिया ताकि उसका इलाज कराने के लिए अस्पताल के चक्कर न लगाने पड़ें। मां-बेटे के रिश्ते को तार-तार करने वाला यह बेहद चौंकने वाला मामला गुजरात के राजकोट का है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यहां के गांधीग्राम के दर्शन अवेन्यू इलाके में बीती 27 जनवरी को जयश्रीबेन विनोदभाई नाथवानी नाम की महिला की छत से गिरकर मौत हो गई थी। पुलिस ने मामला आत्महत्या का दर्ज किया था। पुलिस ने मामले की फाइल बंद भी कर दी थी। लेकिन एक अज्ञात चिट्ठी ने पुलिस की पेशानी पर बल ला दिया और दोबारा तहकीकात करने के लिए मजबूर कर दिया। चिट्ठी में बताया गया था कि महिला चलने में असमर्थ थी, इसलिए छत पर जाकर कूदने का सवाल ही नहीं बनता है।

पुलिस फिर से मौका-ए-वारदात पर पहुंची और इमारत में लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगालना शुरू किया। थोड़ी ही देर में जो तस्वीर सामने आई, उसे देख पुलिस समझ गई कि मामला वैसा नहीं है, जैसा कि उसने सोचा था। सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में महिला चलने में असमर्थ दिखाई देती है। साथ में उसका बेटा संदीप है। आरोपी संदीप मां को सहारा देकर सीढ़ियों से ऊपर ले जाता हुआ दिखाई देता है।

पुलिस ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज से पता चला कि जयश्रीबेन जब छत से गिरीं तब उनका बेटा साथ में था। इसलिए बेटे के मौजूद होते हुए मां का आत्महत्या कर पाना संभव नहीं लगता। बेटे संदीप ने बताया कि उसकी मां सूरज की पूजा करने के लिए ऊपर जाना चाहती थीं, इसलिए उसने उनकी मदद की थी। पुलिस ने इसी के साथ जयश्रीबेन की हेल्थ रिपोर्ट्स चैक कीं तो पता चला कि वह चल पाने की हालत में नहीं थीं। ऐसे में पुलिस का ध्यान इस बात पर गया कि अगर वह चल पाने में सक्षम नहीं थीं तो ढाई फुट की रेलिंग फांदकर कैसे कूद सकती थीं!

पुलिस को मामला समझ में आ चुका था। उसने सख्ती से पूछताछ की तो आरोपी ने सारा का सारा सच उगल दिया। आरोपी संदीप ने बताया कि वह अपनी मां की बीमारी से थक गया था, इसलिए उन्हें मार दिया। इस घटना का सीसीटीवी वीडियो आने बाद इलाके के लोगों में जमकर रोष है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App