ताज़ा खबर
 

पुणे: फुटपाथ पर टेंट बनाकर रहता था सेना का पूर्व कैप्‍टन, पीट-पीटकर कर दी गई हत्‍या

67 वर्षीय सेना के पूर्व कैप्टन रविंद्र बाली पिछले काफी समय से पुणे की छावनी क्षेत्र इलाके में एक फुटपाथ पर एक अस्थाई तंबू लगाकर एक संन्यासी का जीवन जी रहे थे। एक बंगले वॉचमैन ने बताया कि दो लोग बुजुर्ग को लाठियों से पीटकर फरार हो गए।

67 वर्षीय सेना के पूर्व कैप्टन रविंद्र बाली का पिछले दिनों वीडियो वायरल हुआ था। (फेसबुक वीडियो से लिया गया स्क्रीनशॉट)

महाराष्ट्र के पुणे में सेना के एक पूर्व कैप्टन की हत्या कर दी गई। पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 67 वर्षीय सेना के पूर्व कैप्टन रविंद्र बाली पिछले काफी समय से पुणे के छावनी क्षेत्र इलाके में फुटपाथ पर एक अस्थाई तंबू लगाकर संन्यासी का जीवन जी रहे थे। पुलिस के मुताबिक एक बंगले के वॉचमैन ने बताया कि दो लोग बुजुर्ग को लाठियों से पीटकर फरार हो गए। वॉचमैन ने ही इसकी सूचना पुलिस को दी थी। पुलिस अधिकारी ने कहा- ”बाली कई वर्षों से अपने परिवार के संपर्क में नहीं थे और वह एक संन्यासी का जीवन बिता रहे थे। जांच के दौरान हम उनके परिवार का पता लगाने में कामयाब हुए जिससे बाली की शिनाख्त हो सकी।” पुलिस अधिकारी ने बताया कि अज्ञात लोगों के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया और उनकी धर-पकड़ करने के लिए आगे की कार्रवाई चल रही है।

करीब चार महीने पहले इंडियन मिलिट्री ह्यूमर नाम के फेसबुक पेज पर बाली का एक वीडियो अपलोड किया गया था, जो कि वायरल हो गया था। वीडियो में बाली के एक पुराने साथी उनसे बात करते हुए दिखाई देते हैं। वह बाली से वहां से चलने के लिए कहते हैं, लेकिन बाली उन्हें यह कहते हुए मना कर देते हैं कि यहां बहुत मजा आ रहा है। उनके साथी पूछते हैं कि क्या और दूसरे साथी उनसे मिलने आते है, तो बाली कहते है कि स्थानीय लोगों से उन्हें खूब प्यार मिल रहा है।

अंत में बाली के साथी कहते हैं कि वह उन्हें देखने के लिए आते रहेंगे और अगर किसी मदद की जरूरत हो तो बताना, इस पर बाली कहते हैं कि उनके पास पैसे नहीं है। बाली के साथी उन्हें पैसे देने की बात करते हैं और वीडियो खत्म हो जाता है। फेसबुक पेज पर दी गई जानकारी के मुताबिक बाली एनडीए की 44वीं कोर्स में थे। फेसबुक के जरिये बाली के इस वीडियो को खूब शेयर करने की अपील की गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App