ताज़ा खबर
 

भागलपुर JLN मेडिकल कालेज अस्पताल में भर्ती 6 कोरोना मरीजों ने जीती जंग, डाक्टरों ने तालियां बजाकर किया विदा

अस्पताल के अधीक्षक डा.आरसी मंडल ने इस संवाददाता को बताया कि इनमें चार मरीजों की दूसरी रिपोर्ट भी मंगलवार को निगेटिव आई है। एक महिला और एक बच्चे की रिपोर्ट दो रोज पहले ही दोनों रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी थी। यह सुकून की बात है।

कोरोना को शिकस्त देने वाली महिला और बच्चे को जेएलएन भागलपुर मेडिकल कालेज अस्पताल के डॉक्टरों ने तालियां बजाकर विदा करते हुए।

मंगलवार को उस वक्त खुशी का ठिकाना नहीं था जब कोरोना संक्रमण पीड़ित मरीजों ने इस वैश्विक महामारी को शिकस्त दे दी। डाक्टरों ने विश्व स्वास्थ्य दिवस के मौके पर इनमें से दो को तालियां बजाकर विदा किया। फिलहाल कोरोना वार्ड में नौ मरीज भर्ती हैं। दरअसल, जवाहर लाल नेहरू भागलपुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल के कोरोना पृथक वार्ड में भर्ती छह संक्रमित पॉजिटिव मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आ गई।

अस्पताल के अधीक्षक डा.आरसी मंडल ने इस संवाददाता को बताया कि इनमें चार मरीजों की दूसरी रिपोर्ट भी मंगलवार को निगेटिव आई है। एक महिला और एक बच्चे की रिपोर्ट दो रोज पहले ही दोनों रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी थी। यह सुकून की बात है। इन दोनों को यहां के कोरोना वार्ड से मुक्त कर मंगलवार को मुंगेर सदर अस्पताल भेज दिया गया है। इन्हें कुछ रोज घर में ही पृथक रखने की सलाह दी गई है।

बाकी चारों को भी जल्द यहां से मुक्त कर दिया जाएगा। इनमें दो मुंगेर और दो सहरसा के है। संक्रमित मुक्त हुए ये छहों मरीज मुंगेर के कोरोना संक्रमण से बिहार में पहली मौत के शिकार सैफ अली के संपर्क में आए थे। यह कतर से आया था। 21 मार्च को इसकी मौत कोरोना संक्रमण की वजह से पटना एम्स में हुई थी।

अस्पताल से मुक्त करते समय कोरोना को मात देने वाले मरीजों के सम्मान में चिकित्सकों और स्वास्थ्यकर्मियों ने ताली बजाकर दोनों का स्वागत किया। स्वस्थ हुई मरीज जसिना बेगम ने भी डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों को धन्यवाद कहा और आमजनों से अपील की कि बीमारी से डरे नहीं बल्कि उनसे लड़े और डॉक्टरों के बताये नियमों का पालन करें. उन्होंने अस्पताल में चिकित्सकों और स्वास्थ्यकर्मियों से भरपूर प्यार मिलने की बात कही। बालक मोहम्मद कैफ ने भी डिस्चार्ज की खुशी व्यक्त की और कहा कि वो अपने आप को आजाद पा रहा है और बीमारी के चले जाने पर काफी खुशी महसूस कर रहा है।

दोनों मरीजों को ऐम्बुलेंस से मुंगेर सदर अस्पताल भेजा गया जहां उसे होम क्वारेंटाइन में तत्काल रखा जायेगा। अस्पताल के चिकित्सक भी कोरोना पर मिली जीत से उत्साहित नजर आये और वक्त रहते अस्पताल पहुंचने पर इलाज मुमकिन बताया। अस्पताल अधीक्षक डा.आर.सी.मंडल लोगों से सामाजिक दूरी का पालन करने की अपील की । और बोले कि इससे बेहतर इलाज नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 MP: अब उज्जैन में स्वास्थ्यकर्मियों से बदसलूकी! सर्वे को पहुंची टीम को लोगों ने दी गालियां और पत्थर फेंकने की धमकी
2 Coronavirus को काबू करने को अरविंद केजरीवाल लाए ‘5 Ts’ प्लान, बोले- दक्षिण कोरिया जैसे करेंगे बड़े स्तर पर टेस्टिंग