scorecardresearch

कर्नाटक संकट: इस्तीफा देकर निकले कांग्रेस, जेडीएस के एमएलए, उधर तैयार था बीजेपी सांसद का चार्टर्ड प्लेन! 27 से 32 लाख एक तरफ का किराया

कर्नाटक में कांग्रेस जदयू विधायकों के इस्तीफा देने के तुरंत बाद विधायकों को राज्य से बाहर ले जाने के लिए भाजपा सांसद का चार्टर्ड प्लेन तैयार था। इस प्लेन के जरिये विधायकों को मुंबई पहुंचाया गया।

Karnataka, Congress, Janata Dal Secular, Karnatka government, MLAs resigned, Raj Bhavan, JDS, governor Vajubhai Vala, india news, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindi
कर्नाटक में सत्तारुढ़ कांग्रेस-जद(एस) गठबंधन के 11 विधायकों के इस्तीफे के बाद राज्य सरकार खतरे में आ गई है। (फोटोः पीटीआई)
कर्नाटक में सत्तारूढ़ कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन के 13 विधायकों द्वारा विधानसभा अध्यक्ष को अपना इस्तीफा सौंपने से राज्य में मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली महज साल भर पुरानी सरकार खतरे में पड़ गई है। टेलीग्राफ की खबर के अनुसार जैसे ही कांग्रेस और जद (एस) के विधायक राजभवन में राज्यपाल वजूभाई वाला को अपना इस्तीफा सौंप कर निकले वैसे ही उन्हें ले जाने के लिए चार्टर्ड प्लेन तैयार था।

बताया जा रहा है कि यह चार्टर्ड प्लेन भाजपा सांसद का है। राजभवन के बाहर मिनी बस में विधायकों को पुराने एयरपोर्ट ले जाया गया। यहां से चार्टर्ड प्लेन पर सवार होकर विधायक मुंबई के लिए निकल गए। सूत्रों ने बताया कि नौ सीटों वाला यह एयरक्राफ्ट भाजपा सांसद राजीव चंद्रशेखर की कंपनी से जुड़ा है।

डीजीसीए की नॉन शेड्यूल ऑपरेटर्स लिस्ट में यह विमान जूपिटर कैपिटल प्राइवेट लिमिटेड, बंगलुरू नाम से रजिस्टर्ड है। माना जा रहा है कि VT-JUI साइन वाले इस बॉमबार्डियर चैलेंजर विमान ने विधायकों को लेकर मुंबई के लिए उड़ान भरी। इस संबंध में चंद्रशेखर की तरफ से टेलीग्राफ ने बात करने की कोशिश की लेकिन कोई जवाब नहीं मिला।

27 से 32 लाख है किरायाः bookmycharters.com के अनुसार 9 लोगों वाले इस चार्टर्ड विमान का मुंबई का एक तरफ का किराया 27 से 32 लाख रुपये के बीच है। कुछ सूत्रों ने बताया कि कुछ विधायकों को दूसरे विमानन कंपनी की फ्लाइट या दूसरे चार्टर्ड विमान से ले जाया गया। हालांकि, भाजपा ने विधायकों के इस्तीफे में अपनी किसी भी तरह की भूमिका होने से इनकार किया है। राज्य के मुख्यमंत्री एचडी. कुमारस्वामी अभी अपने प्राइवेट यूएस यात्रा पर हैं। सीएम रविवार को लौटेंगे। वहीं राज्य के कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश जी. राव यूरोप में छुट्टियां मना रहे हैं।

खतरे में पड़ सकती है सरकारः यदि इन विधायकों का इस्तीफा स्वीकार कर लिया जाता है तो सत्तारूढ़ गठबंधन (जिसके 118 विधायक हैं) 224 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत खो देगा। वहीं, भाजपा के 105 विधायक हैं। कांग्रेस और जद (एस) के विधायकों के समूह के अपना इस्तीफा सौंपने के लिए विधानसभा अध्यक्ष (स्पीकर) के कार्यालय पहुंचे।

इसके बाद राजभवन में राज्यपाल वजुभाई वाला से मुलाकात करने के बाद गठबंधन सरकार की स्थिरता का संकट गहरा गया है। दरअसल, हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में राज्य में भाजपा के शानदार प्रदर्शन के बाद से गठबंधन सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे थे।

पढें अपडेट (Newsupdate News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट