scorecardresearch

पटना: ‘काली’ पोस्टर विवाद और महुआ मोइत्रा पर FIR कराने पहुंचे भाजपा नेता को थाने से भगाया, कहा- कोर्ट में जाओ, यहां का मामला नहीं

BJP नेता ने बताया, ‘थाने के SHO सुनील कुमार सिंह ने FIR दर्ज करने से मना किया और कहा उन्हें कोर्ट में जाकर ऑनलाइन केस फाइल करने को कहा।’

Mahua Moitra | kaali poster controversy | Priyanka Chaturvedi
विवादित पोस्टर पर मचा बवाल। (Photo Credit- @LeenaManimekali Twitter Handle)।

टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा के मां काली पर दिए गए विवादित बयान पर सियासत बढ़ती ही जा रही है। महुआ के बयान के बाद उनके खिलाफ कई राज्यों में एफआईआर दर्ज हो गई है। बिहार में महुआ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने गए बीजेपी नेता को पुलिस ने थाने से भगा दिया। बिहार में राजधानी पटना की कोतवाली में मां काली पर विवादित पोस्टर सोशल मीडिया पर शेयर करने वाली फिल्म निर्माता और मां काली पर विवादित बयान देने वाली फायर ब्रांड टीएमसी सांसद महुआ मोइत्री के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने थाने गए तो बीजेपी नेता को थानेदार ने वापस लौटा दिया।

पटना कोतवाली के थानेदार ने कहा ये यहां का मामला नहीं है इसलिए हम एफआईआर नहीं दर्ज कर सकते हैं। आपको ज्यादा परेशानी हो तो आप कोर्ट जा सकते हैं। इसके बाद बीजेपी नेता कोतवाली के डीएसपी से भी मिलने पहुंचे लेकिन वहां भी उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई। बीजेपी नेता वरुण कुमार सिंह जो बिहार में कला संस्कृति प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक हैं, ने फिल्म ‘काली’ की

BJP नेता वरुण कुमार सिंह को थानेदार ने लौटाया
दरअसल, भाजपा के कला संस्कृति प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक वरुण कुमार सिंह ‘काली’ फिल्म की प्रोड्यूसर लीना मणिमेकलाई के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करवाने और उसके साथ टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा पर विवादित बयान देने के लिए मामला दर्ज करवाने गए थे। बीजेपी नेता ने बताया, थाने में उनकी प्राथमिकी नहीं दर्ज की गई और ‘थाने के SHO सुनील कुमार सिंह ने उन्हें कोर्ट में जाकर ऑनलाइन केस फाइल करने को कहा। इसके बाद वो DSP संजय कुमार से भी मिलने गए थे लेकिन उन्होंने भी एफआईआर दर्ज करने से इनकार किया।’ ने भी कहा कि FIR दर्ज नहीं कर सकते।’

टीएमसी ने बयान से किनारा किया था अब ममता ने तोड़ी चुप्पी
आपको बता दें कि महुआ मोइत्रा के मां काली पर दिए गये बयान से पहले तो टीएमसी ने किनारा कर लिया था। इसके जवाब में महुआ ने भी टीएमसी के ट्विटर हैंडल को अनफॉलो कर दिया था। वहीं आज विपक्ष के लगातार हमलों के बाद टीएमसी सुप्रीमो और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने महुआ के बयान को लेकर अपनी चुप्पी तोड़ी है। ममता ने कहा, ‘हम काम करते समय गलती करते हैं लेकिन उन्हें सुधारा जा सकता है। कुछ लोग सभी अच्छे काम नहीं देखते हैं और अचानक चिल्लाना शुरू कर देते हैं। नकारात्मकता हमारे मस्तिष्क की कोशिकाओं को प्रभावित करती है इसलिए सकारात्मक सोचें।’

जानिए महुआ ने मां काली को लेकर क्या बोला था?
एक विवादास्पद फिल्म काली के पोस्टर पर एक सवाल का जवाब देते हुए, महुआ मोइत्रा ने कहा कि उनके लिए ‘देवी काली एक मांस खाने वाली और शराब पीने वाली देवी हैं। तो फिर ऐसे पोस्टर पर आपत्ति क्यों?’ महुआ ने ये भी कहा था, जब हम सिक्किम या भूटान जाते हैं तो मां काली को व्हिस्की चढ़ाते हैं और अगर आप यूपी में यही काम करते हैं तो आप ईशनिंदा के पात्र बन जाते हैं। इस पर पश्चिम बंगाल बीजेपी के सह-प्रभारी अमित मालवीय ने कहा,’महुआ मोइत्रा की मां काली पर की गई अपमानजनक टिप्पणी पर ममता की चुप्पी ये दर्शाती है कि वो अपने सांसद के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लेंगी। उन्होंने महुआ को निलंबित करने की मांग भी कर दी थी।’

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट