UP में योगी का खेल बिगाड़ने के लिए चुनावी मैदान में उतरेगी शिवसेना, गठबंधन के भी दिए संकेत

शिवसेना द्वारा सभी सीटों पर चुनाव लड़ने के ऐलान के बाद पार्टी के प्रवक्ता संजय राउत से जब इस बाबत सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि फिलहाल पार्टी 100 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है।

Sanjay Raut
संजय राउत ने बताया कि शिवसेना, उत्तर प्रदेश और गोवा के चुनावों में अपने प्रत्याशी उतारेगी। (फाइल फोटो- इंडियन एक्सप्रेस)

उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सत्ता से बेदखल करने के इरादे से शिवसेवा ने सभी 403 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारने का ऐलान किया है। उत्तर प्रदेश की कार्यकारिणी बैठक में यह फैसला लिया गया। उत्तर प्रदेश के योगी राज को जंगलराज करार देते हुए शिवसेना ने कहा कि सभी सीटों पर प्रत्याशी उतारकर भारतीय जनता पार्टी को सबक सिखाया जाएगा। पार्टी की ओर से जारी बयान के अनुसार जल्द ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को चुनाव और संगठन की रिपोर्ट सौंपी जाएगी।

संजय राउत ने कही 100 सीटों पर तैयारी की बात: शिवसेना द्वारा सभी सीटों पर चुनाव लड़ने के ऐलान के बाद पार्टी के प्रवक्ता संजय राउत से जब इस बाबत सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि फिलहाल पार्टी 100 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। इससे पहले पार्टी ने चुनावों से पहले गठबंधन के भी संकेत दिए थे। पार्टी के प्रदेश प्रमुख अनिल सिंह ने बताया कि सभी विधानसभा सीटों पर शिवसेना को मजबूत करने के लिए को-ऑर्डिनेटरों की नियुक्ति की जा रही है।

क्या राजभर और ओवैसी के साथ नजर आएगी शिवसेना: शिवसेना द्वारा गठबंधन के संकेत से पहले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने दावा किया था कि संकल्प भागीदारी मोर्चा का साथ देने के लिए शिवसेना, टीएमसी और आम आदमी पार्टी आगे आ सकती है। ऐसे में इस बात की अटकलों ने जोर पकड़ लिया है कि क्या चुनाव से पहले शिवसेना भागीदारी मोर्चा के साथ नजर आएगी।

2017 के चुनावों में शिवसेना की स्थिति: साल 2017 के चुनावों में भी शिवसेना ने उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में 50 प्रत्याशियों को उतारा था। लेकिन किसी भी सीट पर उन्हें कामयाबी नहीं मिली थी। राजनीति के जानकार मानते हैं कि शिवसेना के उतरने से बीजेपी को नुकसान हो सकता है क्योंकि दोनों ही पार्टियों का वोटबैंक हिंदू विचारधारा से ही जुड़ा हुआ माना जाता है।

क्या होंगे शिवसेना के मुद्दे: शिवसेना ने तय किया है कि इस चुनावों में वह राज्य की बिगड़ती कानूनी व्यवस्था और शिक्षा माफियाओं को साथ योगी सरकार के गठजोड़ के मामले को प्रमुखता से उठाएगी। साथ ही कोविड काल के दौरान हुई त्रासदी को लेकर भी रणनीति तैयार की जा रही है।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।