ताज़ा खबर
 

उद्धव ठाकरे ने फिर की राहुल गांधी की तारीफ, बोले- देश ‘नए राहुल’ के उदय का बना गवाह

शिवसेना प्रमुख ने 'सामना' में संपादकीय के जरिये भाजपा पर साधा निशाना।

Author नई दिल्ली | December 18, 2017 3:32 PM
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे। (File Photo)

शिवसेना का भाजपा के प्रति जारी तल्खी कम होने का नाम नहीं ले रही है। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने एक बार फिर से कांग्रेस के नवनियुक्त अध्यक्ष राहुल गांधी की तारीफ की है। उन्होंने पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में प्रकाशित संपादकीय में लिखा कि देश ‘नए राहुल गांधी’ के उदय का गवाह बना है। भाजपा की आलोचना करते हुए शिवसेना प्रमुख ने सत्तारूढ़ दल को राहुल के बजाय देश के सामने मौजूद समस्याओं पर ज्यादा बात करने की नसीहत दी है। साथ ही उद्धव ने लिखा कि जो लोग यह सोचते हैं कि पिछले कुछ वर्षों में कुछ हुआ ही नहीं है तो वे ‘मूर्ख शिरोमणी’ हैं।

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद से शिवसेना और भाजपा के बीच की दरारें लगातार बढ़ती जा रही हैं। हालांकि, शिवसेना न तो केंद्र से और न ही महाराष्ट्र से अब तक समर्थन वापस लिया है। ‘सामना’ के ताजा संपादकीय में उद्धव ने कांग्रेस के नए अध्यक्ष राहुल गांधी को शुभकामना देते हुए लिखा, ‘गुजरात विधानसभा चुनाव का नतीजा चाहे जो हो, लेकिन देश नए राहुल गांधी के उदय का गवाह बना है। ऐसे में उन्हें शुभकामना देने में कोई नुकसान नहीं है। राहुल ने कांग्रेस की कमान संभाल ली है। इसके बावजूद यह कहना सही नहीं होगा कि देश में अब राहुल युग की शुरुआत हो गई है। हां, कांग्रेस में उनके युग का प्रारंभ जरूर हुआ है। कांग्रेस पार्टी अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रही है। ऐसे में भाग्य ने पार्टी में नई जान फूंकने की जिम्मेदारी राहुल के कंधों पर डाल दी है।’ उद्धव ने कांग्रेस और शिवसेना के बीच वैचारिक मतभेद का भी जिक्र किया है। उन्होंने लिखा कि यदि राहुल देश के लिए काम कर रहे हैं तो शिवसेना उनकी आलोचना करने के बजाय उन्हें शुभकामनाएं देगी।

गुजरात चुनाव के बारे में यहां जानें

भाजपा को निशाना बनाते हुए उद्धव ने लिखा, ‘सत्तारूढ़ दल को देश में मौजूद समस्याओं के बारे में बात करनी चाहिए। राहुल गांधी अपनी पार्टी के लिए क्या करतें हैं, यह उन पर ही छोड़ दिया जाना चाहिए। वे (भाजपा) दावा करते हैं कि देश की प्रगति में नेहरू, इंदिरा या राजीव गांधी का कोई योगदान नहीं है। राजनीतिक वर्ग आज जो फायदा उठा रहे हैं वह राजनीतिक पूर्वजों की ही देन है। ऐसे में इसको भुलाना ज्ञान की कमी और कृतघ्नता है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App