ताज़ा खबर
 

मैं CM हूं फिर भी मानता हूं कि जन कल्याण का सारा काम केवल सरकार के बस का नहीं: शिवराज

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में सतत 11 साल पूरे करने वाले शिवराज सिंह चौहान का मानना है कि जन कल्याण का सारा काम केवल सरकार के बस का नहीं है।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में सतत 11 साल पूरे करने वाले शिवराज सिंह चौहान का मानना है कि जन कल्याण का सारा काम केवल सरकार के बस का नहीं है। लिहाजा इस काम में सरकार का हाथ बंटाने के लिये समाज को भी आगे आना होगा। शिवराज ने कल रात यहां श्री सद्गुरु दत्त धार्मिक एवं परमार्थिक ट्रस्ट के प्रमुख भैयू महाराज द्वारा आयोजित समारोह में यह बात कही। इस समारोह में मुख्यमंत्री को राजनीति के जरिये समाज और मानवता के कल्याण में उल्लेखनीय योगदान के लिये ‘सूर्योदय मानवता सेवा सम्मान’ से नवाजा गया।
शिवराज ने सम्मान ग्रहण करने के बाद कहा, ‘मैं मुख्यमंत्री होने के बावजूद मानता हूं कि जन कल्याण का सारा काम केवल सरकार नहीं कर सकती। इस सिलसिले में सरकार के साथ समाज को भी खड़ा होना होगा।’

उन्होंने कहा, ‘हमने प्रदेश में सरकार चलाते वक्त अलग तरह की कोशिश की है। हमने खासकर सामाजिक क्षेत्र की जितनी भी बड़ी योजनाएं बनायीं, वे भोपाल के वल्लभ भवन स्थित राज्य सचिवालय में मंत्रियों और नौकरशाहों के साथ बैठकर नहीं बनायीं बल्कि इन कार्यक्रमों को आकार देने के लिये महिलाओं और विद्यार्थियों समेत समाज के अलग..अलग तबकों से सीधा संवाद किया।’

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में प्रदेश सरकार द्वारा नर्मदा नदी के उद्गम स्थल अमरकंटक से 11 दिसंबर को शुरू की गयी ‘नर्मदा सेवा यात्रा’ का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, ‘नर्मदा प्रदेश की समृद्धि का आधार है। पांच महीने तक चलने वाली नर्मदा सेवा यात्रा के जरिये हम इस नदी के संरक्षण और इसे प्रदूषणमुक्त बनाने के लिये कदम उठायेंगे।’

शिवराज के सम्मान समारोह में बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद, केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती, केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री सुभाष भामरे, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री फड़णवीस और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के महासचिव सुरेश भैयाजी जोशी समेत कई हस्तियां मौजूद थीं।

गौरतलब है कि इससे पहले नवंबर में हुए उन्हें सीएम के तौर पर 11 साल पूरे करने और इस मामले में प्रदेश में एक नया रिकार्ड बनाने पर सेन्ट्रल प्रेस क्लब द्वारा यहां आयोजित ‘प्रेस-से-मिलिये’ कार्यक्रम में उन्होंने एक प्रश्न के उत्तर में कहा, ‘मेरे सत्ता में आने के बाद मध्यप्रदेश में डकैतों के आतंक को भी खत्म कर दिया गया है।’ उन्होंने बताया, ‘‘सज्जनों के लिए मेरी सरकार फूल के समान है और जनता को तकलीफ देने वाली चीज या लोगों के लिए मैं कड़ा रुख अपनाता हूं।’ प्रदेश के 4,000 स्कूलों में एक भी शिक्षक नहीं होने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘मध्यप्रदेश में कोई स्कूल शिक्षक रहित नहीं है। हर स्कूल में कम से कम एक शिक्षक जरूर है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App