ताज़ा खबर
 

पत्रकार की मौत मामले में सीबीआइ जांच की सिफारिश करेगी राज्य सरकार: शिवराज सिंह चौहान

संदीप शर्मा को रेत ले जाने वाले खाली ट्रक ने भिंड के सिटी कोतवाली पुलिस थाने के सामने सड़क पर सोमवार को कथित रूप से कुचल दिया था, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी।

Author Published on: March 28, 2018 5:58 AM
रेत माफिया का स्टिंग आपरेशन करने वाले पत्रकार संदीप शर्मा (35) को ट्रक से कुचलने के बाद मौके से फरार हो गया था।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को कहा कि राज्य सरकार भिंड में सोमवार को पत्रकार की ट्रक से कुचलकर हुई मौत के मामले की सीबीआइ जांच के लिए केंद्र सरकार से सिफारिश करेगी। इसी बीच, भिंड पुलिस ने सोमवार देर रात उस ट्रक चालक को गिरफ्तार कर लिया है, जो रेत माफिया का स्टिंग आपरेशन करने वाले पत्रकार संदीप शर्मा (35) को ट्रक से कुचलने के बाद मौके से फरार हो गया था। मध्य प्रदेश जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि पत्रकार संदीप शर्मा की सड़क हादसे में हुई मौत के मामले में सीबीआइ जांच की सिफारिश की जाए।

पत्रकार ने मध्य प्रदेश के पुलिस महानिदेशक, पुलिस महानिरीक्षक, भिंड के पुलिस अधीक्षक व मानव अधिकार आयोग को कई बार आवेदन देकर रेत माफिया से अपनी जान को खतरा बताया था और सुरक्षा की मांग की थी।भिंड के पुलिस अधीक्षक प्रशांत खरे ने बताया कि पुलिस ने संदीप को कुचलने वाले ट्रक चालक रणवीर यादव उर्फ गेंदा (24) को गिरफ्तार कर लिया है। उससे पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने आइपीसी की धारा 304 (गैर-इरादतन हत्या) के तहत आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

संदीप शर्मा को रेत ले जाने वाले खाली ट्रक ने भिंड के सिटी कोतवाली पुलिस थाने के सामने सड़क पर सोमवार को कथित रूप से कुचल दिया था, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी। इस मामले को गंभीर व संदिग्ध बताते हुए लोकसभा में कांग्रेस के मुख्य सचेतक व पार्टी के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इसकी तत्काल सीबीआइ जांच की मांग की थी।
इसी बीच, राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग ने पत्रकार संदीप शर्मा की मौत के बारे में मीडिया में छपी रिपोर्ट पर संज्ञान लेते मध्य प्रदेश के मुख्य सचिव व पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी किया है और उनसे इस मामले की विस्तृत रिपोर्ट चार हफ्तों में देने को कहा है। आयोग ने कहा कि यह समाचार सही है, तो यह प्रशासन विशेष रूप से पुलिस अधिकारियों की ओर से लापरवाही इंगित करता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 राजस्थान: पर्यटन विकास निगम बंद होने के कगार पर
2 जल्द ही स्मार्ट स्ट्रीट लाइट से जगमगाएगा नोएडा
3 पिछले दरवाजे से प्रावधानों को लागू कर रही है सरकार : प्रोफेसर सुधीर