ताज़ा खबर
 

शिवसेना का आरोप- खड़से को हटाने के पीछे सीएम देवेंद्र फणनवीस का हाथ

शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में एक संपादकीय में कहा कि खड़से ने सोचा होगा कि कल का लड़का देवेंद्र फड़णवीस राजनीति नहीं समझेगा।

Author मुंबई | June 7, 2016 02:04 am
महाराष्‍ट्र के राजस्‍व मंत्री एकनाथ खड़से ने पद से इस्‍तीफा दे दिया है।

शिवसेना ने सोमवार को कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने अपने पूर्व कैबिनेट सहकर्मी व वरिष्ठ भाजपा नेता एकनाथ खड़से को हटाने के लिए ‘गोपनीय’ तरीके से काम किया। खडसे ने भूमि सौदे में अनियमितताओं सहित कई आरोप लगने के बाद इस्तीफा दे दिया था।

शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में एक संपादकीय में कहा कि खड़से ने सोचा होगा कि कल का लड़का देवेंद्र फड़णवीस राजनीति नहीं समझेगा। उन्होंने सोचा कि वह ही सरकार हैं। लेकिन वह यह जानने में असफल रहे कि यह कल का लड़का पटाखे में बारूद भर रहा है। इसने कहा कि भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो छह महीने से खड़से के पीए गजानन पाटिल के पीछे था। इससे हमें फड़णवीस की कार्यशैली में गोपनीयता समझ आती है।

शिवसेना ने जानना चाहा कि फड़णवीस अपने सहकर्मी को बचाने एक बार भी सामने क्यों नहीं आए। इसने कहा- खड़से कह रहे हैं कि उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं है और यदि वह दोषी साबित होते हैं तो राजनीति छोड़ देंगे। छगन भुजबल भी जेल में यही बात कह रहे हैं। आदर्श घोटाले के आरोपी अशोक चव्हाण भी यह बात कह रहे हैं। सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा भी कह रहे हैं कि वह निर्दोष हैं। पुणे में भूमि सौदे में कथित अनियमितताओं, कराची स्थित दाउद इब्राहीम के आवास से उनके फोन पर कॉल आने और उनके निजी सहायक के कथित तौर पर रिश्वत मांगे जाने सहित सिलसिलेवार आरोपों को देखते हुए खड़से ने शनिवार को इस्तीफा दे दिया था।

इसके बाद फडनवीस ने खडसे पर लगे आरोपों में हाई कोर्ट के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश से जांच कराने की घोषणा की। यह मांग खुद खडसे ने भी की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App