ताज़ा खबर
 

पत्नी को ED की नोटिस मिलने पर बोले संजय राउत- मेरे पास बीजेपी की फाइल है, डरना वाला नहीं

पत्नी को एजेंसी के समन पर शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत नाराजगी जताई है।

शिवसेना सांसद संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत को पीएमसी बैंक धनशोधन मामले में पूछताछ के लिए ईडी के सामने पेश होना है। फाइल फोटो। फोटो सोर्स- Indian Express

प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने शिवसेना सांसद संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत को पीएमसी बैंक धनशोधन मामले में पूछताछ के लिए 29 दिसंबर को तलब किया है। वर्षा राउत को मुंबई में केंद्रीय एजेंसी के समक्ष पेश होने के लिए कहा गया है। ये उनको पेश होने के लिए जारी तीसरा समन है, इससे पहले वह दो बार स्वास्थ्य आधार पर एजेंसी के समक्ष पेश नहीं हुई हैं। पूछताछ के लिए उन्हें समन धनशोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत जारी किया गया है।

पत्नी को एजेंसी के समन पर शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि ईडी जैसी एजेंसियां महत्वपूर्ण नहीं हैं क्योंकि राजनीतिक शक्ति के लिए तेजी से इनका इस्तेमाल हो रहा है। उन्होंने विपक्षी दल पर निशाना साधते हुए कहा कि राजनीतिक लड़ाई आमने-सामने लड़ने चाहिए। राउत ने कहा- मैंने सीएम उद्धव ठाकरे से बात की है। शिवसेना अपनी तरीके से उन्हें जवाब देगी। घबराने की जरुरत नहीं है।

संजय राउत ने सोमवार को कहा कि ईडी, सीबीआई या आयकर विभाग का महत्व कम हो रहा है। इससे पहले जब एजेंसी कोई कार्रवाई करती तो लगता कि कुछ गंभीर है। मगर पिछले कुछ सालों से ऐसा लग रहा है कि एजेंसियों की कार्रवाई तब होती है जब कोई राजनीतिक दल अपना गुस्सा निकाल रहा होता है। उन्होंने दावा किया- मेरा पास भाजपा की एक फाइल है जिसमें 121 नाम है। इसे जल्द ही ईडी को सौंपा जाएगा। ये इतने नाम है कि ईडी को पांच साल तक काम करना पड़ेगा।

बता दें कि हाल ही में शरद पवार की पार्टी एनसीपी में शामिल हुए भाजपा के पूर्व नेता एकनाथ खडसे को भी ईडी ने पुणे के भोसरी इलाके में एक भूमि सौदे से जुड़े धनशोधन मामले के संबंध में 30 दिसंबर को पूछताछ के लिए तलब किया है। इधर आधिकारिक सूत्रों ने दावा किया कि ईडी वर्षा राउत से उस राशि की ‘रसीद’ के बारे में पूछताछ करना चाहता है जिसका कथित तौर पर बैंक से गबन किया गया था।

ईडी ने पिछले साल अक्टूबर में पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (पीएमसी) बैंक में कथित ऋण धोखाधड़ी की जांच के लिए हाउसिंग डेवलपमेंट इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एचडीआईएल), उसके प्रमोटर राकेश कुमार वधावन और उनके बेटे सारंग वधावन, उसके पूर्व अध्यक्ष वी. सिंह और पूर्व प्रबंध निदेशक जॉय थॉमस के खिलाफ पीएमएलए के एक मामला दर्ज किया था।

एजेंसी ने पीएमसी बैंक को कथित रूप से ‘प्रथम दृष्टया गलत तरीके से 4,355 करोड़ रुपए का नुकसान और खुद को लाभ’ पहुंचाने के लिए उनके खिलाफ मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा द्वारा दर्ज प्राथमिकी पर संज्ञान लिया था। (एजेंसी इनपुट)

Next Stories
1 यूपीः दांत उखाड़ने के बाद महिला की मौत, मामले में चिकित्‍सक के खिलाफ केस
2 राजस्थानः गांव में शख्स को निर्वस्त्र कर निकाली परेड, महिला का यौन उत्पीड़न करने का है आरोप
3 यूपी कांग्रेस अध्‍यक्ष का गांधी प्रतिमा पर पुष्‍प अर्पित करने से रोके जाने पर धरना
ये पढ़ा क्या?
X