ताज़ा खबर
 

‘आप आधी रात जागे थे, शरद पवार हमेशा जागे रहते हैं’, सामना में शिवसेना का बीजेपी पर तंज

महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने उनके दौरे पर सवाल खड़ा करते हुए पूछा कि पवार अब क्यों जागे हैं? शिवसेना ने जवाब में कहा, ‘‘लेकिन पवार हमेशा जागे रहते हैं, इसलिए उनकी राजनीतिक समय-गणना हमेशा सही होती है।

Author मुंबई | Updated: June 11, 2020 4:15 PM
sharad pawar devendra fadnavis bjp shiv sena राकांपा अध्यक्ष शरद पवार। (फाइल फोटो)

शिवसेना ने तूफान निसर्ग से हुए नुकसान का आकलन करने के लिए राकांपा अध्यक्ष शरद पवार के कोंकण क्षेत्र के दौरे का बचाव करते हुए बृहस्पतिवार को भाजपा पर दौरे की आलोचना के लिए निशाना साधा। शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ के संपादकीय में लिखा गया है कि पवार हमेशा जागे रहते हैं और इसलिए उनकी राजनीतिक समय-गणना हमेशा सही होती है।
उसने कहा कि जब महाराष्ट्र कोविड-19 और निसर्ग तूफान से जूझ रहा है, ऐसे में भाजपा की सियासत करने की कोशिश ‘घृणित’ है।

शिवसेना ने कहा कि केंद्र सरकार ने चक्रवाती तूफान से हुए नुकसान की भरपाई के लिए राज्य को कोई मदद क्यों नहीं दी।
पवार की राकांपा महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी में शामिल है। पवार ने पिछले दो दिन में रायगढ़ और कोंकण क्षेत्र के अन्य हिस्सों का दौरा कर पिछले सप्ताह आए तूफान निसर्ग से हुए नुकसान का जायजा लिया था।

महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने उनके दौरे पर सवाल खड़ा करते हुए पूछा कि पवार अब क्यों जागे हैं?
शिवसेना ने जवाब में कहा, ‘‘लेकिन पवार हमेशा जागे रहते हैं, इसलिए उनकी राजनीतिक समय-गणना हमेशा सही होती है। छह महीने पहले भाजपा नेता आधी रात में जागे थे और सुबह-सुबह शपथ ग्रहण हो गया था। लेकिन पवार ने दो दिन में शह-मात दे दी।’’

पार्टी पिछले साल राज्य विधानसभा चुनावों के बाद राज भवन में आयोजित शपथ-ग्रहण समारोह का जिक्र कर रही थी, जहां भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलाई गयी थी।  शिवसेना ने चुटकी लेते हुए कहा, ‘‘उस घटना के बाद भाजपा नेता पूरी तरह जागे हुए हैं और अब भी सत्ता में आने का इंतजार कर रहे हैं। जब महाराष्ट्र कोविड-19 के संकट और तूफान निसर्ग से जूझ रहा है, ऐसे में राजनीति करने की भाजपा की कोशिश घृणित हैं।’’ पार्टी ने कहा कि राज्य सरकार हमेशा जागी रहती है।

उसने लिखा कि पवार के जागने से बड़ा सवाल इस बात का है कि क्या केंद्र सरकार राज्य के सामने मौजूद संकट को लेकर जगी हुई है? शिवसेना के मुताबिक, ‘‘अच्छी बात है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल जाकर तूफान अम्फान से हुए नुकसान का आकलन किया। तूफान निसर्ग से कोंकण तट भी तबाह हो गया। केंद्र ने महाराष्ट्र में आना जरूरी नहीं समझा? क्या चंद्रकांत पाटिल ने केंद्र सरकार को जगाया?’’

उसने कहा कि पश्चिम बंगाल में चुनाव आने वाले हैं, इसलिए केंद्र हस्तक्षेप कर रहा है। शिवसेना ने लिखा, ‘‘महाराष्ट्र में मौजूदा विधानसभा के समाप्त होने (2024 में) से पहले चुनाव होने की कोई संभावना नहीं है। स्पष्ट है कि भाजपा नहीं जीतेगी।’’

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 उत्तराखंड में नई भर्तियों पर रोक, कोरोना के कारण आर्थिक तंगी झेल रही राज्य सरकार
2 दलित बस्ती पर बोला था धावा, की थी आगजनी, सीएम योगी बोले- लगाओ गैंगस्टर एक्ट और रासुका
3 ‘पापियों का विनाश तो पुण्य का काम है, धर्म तो यही कहता है’, ऑडियो क्लिप वायरल होने के बाद बोले शिवराज सिंह चौहान
IPL 2020 LIVE
X