ताज़ा खबर
 

Maharashtra: अमित शाह ने शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी पर साधा निशाना, कहा- अब सरकार बनाकर दिखाओ

शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के बीच लगातार बातचीत जारी है। अभी तक कोई रास्ता नहीं निकल सका है। हालांकि तीनों दल अब भी प्रयास में लगे हैं। दूसरी तरफ बीजेपी ने साफ किया कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाना संवैधानिक और उचित है।

मुंबईमहाराष्ट्र में सरकार को लेकर गतिरोध जारी, प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो सोर्स -इंडियन एक्सप्रेस)

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने के बाद राज्य में सरकार बनाने के लिए शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के बीच लगातार बातचीत जारी है। अभी तक कोई रास्ता नहीं निकल सका है। हालांकि तीनों दल अब भी प्रयास में लगे हैं। दूसरी तरफ बीजेपी ने साफ किया कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाना संवैधानिक और तार्किक है। पार्टी ने इस मामले में विपक्ष के विरोध को खारिज कर दिया। कहा कि जिसके पास संख्या हो, वह एक बार सरकार बनाकर दिखाए।

उद्धव ठाकरे ने कहा, बातचीत सही रास्ते पर है : शिवसेना ने कहा है कि वह गवर्नर के फैसले के खिलाफ कोर्ट में अपनी याचिका में अतिरिक्त समय नहीं देने की बात नहीं रखेगी। हालांकि पार्टी के वकील ने कहा कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने को चुनौती देने वाली एक अन्य याचिका तैयार की जा रही है। शिवसेना, कांग्रेस और राकांपा के नेता सरकार बनाने के लिए एक कॉमन मिनिमम प्रोग्राम (CMP)पर काम करने में जुटे हैं। शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे सुबह एक घंटे से अधिक समय तक महाराष्ट्र कांग्रेस नेताओं से बातचीत की। बैठक के बाद उन्होंने कहा कि सरकार गठन के लिए बातचीत “सही दिशा” में आगे बढ़ रही है।

Hindi News Today, 14 November 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

एनसीपी ने बनाया पैनल : इस बीच शरद पवार के नेतृत्व वाली एनसीपी ने पांच सदस्यों का एक पैनल बनाया है। यह कॉमन मिनिमम प्रोग्राम (CMP) बनाने के लिए बातचीत करेगी। इसमें अजित पवार, छगन भुजबल, नवाब मलिक और धनंजय मुंडे शामिल हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चौहान ने कहा कि सरकार बनाने की प्रक्रिया तभी शुरू होगी, जब तीनों दलों के वरिष्ठ नेता कॉमन मिनिमम प्रोग्राम (CMP) पर मुहर लगा देंगे।

बीजेपी बोली, हमें मध्यावधि चुनाव नहीं चाहिए : बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने बुधवार को कहा कि शिवसेना की मांग अस्वीकार्य है। उन्होंने विपक्ष के राष्ट्रपति शासन की आलोचना को भी खारिज कर दिया। कहा कि हम मध्यावधि चुनाव के पक्ष में नहीं है। कहा कि सभी दलों के पास छह महीने की मोहलत है। वे बहुमत साबित करें और सरकार बनाएं। अपने बयान और ट्वीट में उन्होंने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के इस दावे को खारिज कर दिया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई बार सीएम पद साझा करने पर सहमति व्यक्त की थी। कहा कि वह स्वयं विधानसभा चुनावों के दौरान सार्वजनिक रूप से “कम से कम 100 बार” कहे थे कि अगर भगवा गठबंधन को बहुमत मिलता है तो देवेंद्र फडनवीस फिर से सरकार का नेतृत्व करेंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Odisha: झींगा प्रोसेंसिंग प्लांट में जहरीली गैस हुई लीक, सैकड़ों लोग पड़े बीमार; अस्पताल में भर्ती
2 Haryana: खट्टर सरकार में दुष्यंत चौटाला को अलॉट हुए 11 विभाग, JJP समेत निर्दलीयों को आज मंत्री पद मिलने की उम्मीद
3 कर्नाटकः 16 अयोग्य विधायक BJP में शामिल, 13 को मिला टिकट
ये पढ़ा क्या?
X