ताज़ा खबर
 

उद्धव ठाकरे बोले- मोरारजी देसाई ने भी लागू की थी नोटबंदी पर नहीं सुधरी इकॉनोमी, आपका कौन सा उद्देश्य पूरा हुआ

उद्धव ने कहा, ‘‘नोटबंदी की घोषणा करते हुए उन्होंने (भाजपा) कहा था कि इससे आतंकवादी हमले के अवसर खत्म हो जाएंगे लेकिन क्या यह हुआ? हमारे जवान पहले की तरह शहीद हो रहे हैं।’’

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे। (PTI File Photo)

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने आज (रविवार को) कहा कि केंद्र के नोटबंदी का मूल उद्देश्य ‘‘पूरा नहीं हुआ’’ क्योंकि लोग बैंक की कतारों में मर रहे हैं और आतंकवादियों का हमला अब भी जारी है। उन्होंने मुंबई में एक समारोह में कहा, ‘‘जवानों ने दुश्मन की गोलियों का सामना किया और देश की सेवा की लेकिन सेवानिवृत्ति के बाद उन्हें अपना धन नहीं मिल पा रहा है और यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है कि अब वे खुद की गोलियों से मर रहे हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘नोटबंदी की घोषणा करते हुए उन्होंने (भाजपा) कहा था कि इससे आतंकवादी हमले के अवसर खत्म हो जाएंगे लेकिन क्या यह हुआ? हमारे जवान पहले की तरह शहीद हो रहे हैं।’’ आम आदमी को होने वाली कठिनाइयों को लेकर केंद्र सरकार पर प्रहार करते हुए शिवसेना प्रमुख ने इस निर्णय के उद्देश्य पर भी सवाल उठाए।

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के नोटबंदी को लागू न किए जाने पर पीएम मोदी के बयान पर उद्धव ठाकरे ने कहा कि साल 1978 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने नोटबंदी का फैसला लिया था लेकिन उसके बावजूद तब इकॉनमी बेहतर क्यों नहीं हुई थी?

वीडियो देखिए- अटल सरकार के वक्त RBI गवर्नर रहे बिमल जालान ने पूछा- “नोटबंदी अब क्यों…फैसले को सीक्रेट रखने से क्या मदद मिली?”

वीडियो देखिए- इंदौर: नोटबंदी के खिलाफ कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन; पुलिस से हुई हाथापाई

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App