राजधानी में कृषि कानूनों को लेकर शिरोमणि अकाली दल के प्रदर्शन से लगा भारी जाम, दिल्ली-एनसीआर में हुआ लोगों का बुरा हाल

उत्तर प्रदेश सीमा पर यूपी गेट, आइटीओ, धौला कुआं, आश्रम, आनंद विहार, प्रगति मैदान के साथ सिंधु बार्डर सहित अन्य सभी सीमाओं पर दिल्ली आने वाले लोगों को काफी मशक्कत करनी पड़ी।

Farm laws, farmer protest
किसानों के आंदोलन के कारण दिल्ली गुरुग्राम एक्सप्रेसवे पर शुक्रवार को जाम में फंसीं गाड़ियां (ऊपर) और दिल्ली के आईटीओ पर नहीं रुकी रहे वाहन। (नीचे) (फोटो- पीटीआई)

कृषि कानूनों को लेकर शुक्रवार को शिरोमणि अकाली दल की अगुआई में संसद मार्च को लेकर दिल्ली-एनसीआर के विभिन्न मार्गों पर यातायात परिवर्तन करने के साथ सुरक्षा भी कड़ी की गई। इसी कारण दिल्ली में जगह-जगह जाम लगा। दिल्ली यातायात पुलिस ने झाड़ोदा कलां बार्डर को किसान आंदोलन की वजह से बैरिकेडिंग लगा कर बंद कर दिया। लोगों से मार्ग के प्रयोग से बचने को कहा गया।

किसानों द्वारा दिल्ली के संसद भवन के घेराव को लेकर गुरुग्राम के दिल्ली सिरहौल बार्डर पर भी सुरक्षा कड़ी थी। बैरिकेडिंग के चलते तकरीबन तीन घंटे तक दिल्ली-गुरुग्राम एक्सप्रेसवे पर जाम की स्थिति रही। बैरिकेडिंग के चलते आइटीओ, प्रगति मैदान समेत कई इलाकों में जाम की स्थिति बनी रही। उत्तर प्रदेश सीमा पर यूपी गेट, आइटीओ, धौला कुआं, आश्रम, आनंद विहार, प्रगति मैदान के साथ सिंधु बार्डर सहित अन्य सभी सीमाओं पर दिल्ली आने वाले लोगों को काफी मशक्कत करनी पड़ी।

एक ने बताया कि लक्ष्मी नगर से आइटीओ तक विकास मार्ग का पूरा हिस्सा जाम था। इस रास्ते पर वाहन रेंग रहे थे। गीता कॉलोनी का क्षेत्र भी जाम था। मैं किसी तरह सुबह करीब 11 बजे पटियाला हाउस अदालत पहुंचा। यातायात जाम के बारे में शिकायत करने के लिए कई यात्रियों ने ट्विटर का सहारा लिया। एक यात्री ने कहा कि लक्ष्मी नगर से आइटीओ तक वाहनों का भारी दबाव था और उन्हें चार किलोमीटर की दूरी तय करने में एक घंटे का समय लग गया। इससे पहले, दिल्ली यातायात पुलिस ने शुक्रवार को यात्रियों को बंद मार्गों के बारे में जानकारी दी और परेशानी से बचने के लिए मार्ग परिवर्तन का सुझाव दिया।

दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्वीट किया, ‘गुरुद्वारा रकाब गंज रोड, आरएमएल अस्पताल, जीपीओ, अशोक रोड, बाबा खड़ग सिंह मार्ग पर किसान आंदोलन के कारण भीड़भाड़ होगी, अत: इन मार्गों का इस्तेमाल करने से कृपया बचें।’’ पुलिस के मुताबिक, सरदार पटेल मार्ग से धौला कुआं मार्ग भी बंद है। उसने मार्ग परिवर्तन संबंधी अन्य जानकारी भी दी।

इन सबके बावजूद किसानों ने अपना प्रदर्शन और विरोध जारी रखा। उनका कहना है कि जब तक उनकी मांगे नहीं मान ली जाती हैं और कृषि कानून सरकार वापस नहीं ले लेती है तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट