ताज़ा खबर
 

दो अलग मामलों में सात पुलिस कर्मचारी निलंबित और ड्यूटी से हटाए गए पांच होमगार्ड जवान

एसएसपी ने बताया कि 26 दिसंबर 2015 को दरभंगा में दो इंजीनियरों की हत्या के मामले में उम्र कैद की सजा काट रहे विकास झा भागलपुर के विशेष केंद्रीय कारा के तृतीय खंड में नौ सितंबर 18 से बंदी था। सिर में दर्द की शिकायत को लेकर उसे बीते बारह दिन पहले जेएलएन भागलपुर मेडिकल कालेज अस्पताल इलाज के लिए लाया गया था।

Author भागलपुर | Updated: August 21, 2019 6:28 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर

जवाहरलाल नेहरू भागलपुर मेडिकल कालेज अस्पताल के कैदी वार्ड से फरार उम्र कैद की सजायाफ्ता व कुख्यात विकास झा के फरार होने के मामले में एक हवलदार समेत पांच पुलिसियों को एसएसपी ने निलंबित कर दिया। साथ ही होमगार्ड के चार जवानों को लापरवाही के आरोप में ड्यूटी से हटा दिया है। इसके अलावे थाना हवीवपुर की हाजत से बदमाश इमरान मुर्गा के निकल भाग जाने के मामले में एक एएसआई ललन कुमार और सिपाही सोनू कुमार को निलंबित किया गया है। इस मामले में एक होमगार्ड जवान गुरुचरण सुमन को ड्यूटी से हटा दो साल तक इसकी सेवा बतौर दंड न लेने की सिफारिश ज़िलाधीश से एसएसपी ने की है।

एसएसपी आशीष भारती बताते है कि इमरान मुर्गा को पुलिस ने अपराध के एक मामले में इतवार को गिरफ्तार कर हवीवपुर थाना की हाजत में बंद किया था। हाजत के गेट का दरवाजा खुला रहने की वजह से मोहल्ले की कुछ औरतें उसकी गिरफ्तारी का विरोध करने थाना पर आई। मगर ताला जड़ा न देख हाजत का दरवाजा खोल दिया। नतीजतन अपराधी को फरार होने का मौका मिल गया। ड्यूटी पर वहां तैनात पुलिसियों की बड़ी चूक की वजह से उन्हें निलंबित कर जांच की जा रही है।

एसएसपी ने बताया कि 26 दिसंबर 2015 को दरभंगा में दो इंजीनियरों की हत्या के मामले में उम्र कैद की सजा काट रहे विकास झा भागलपुर के विशेष केंद्रीय कारा के तृतीय खंड में नौ सितंबर 18 से बंदी था। सिर में दर्द की शिकायत को लेकर उसे बीते बारह दिन पहले जेएलएन भागलपुर मेडिकल कालेज अस्पताल इलाज के लिए लाया गया था। सोमवार को हथकड़ी लगाने के दौरान होमगार्ड जवान को धक्का देकर उसने गिरा दिया। और मौके की तलाश में बाहर खड़े उसके ममेरे भाई आयुष ने सिपाही के आंखों में मिर्च पाउडर डाल दिया। और जेल अस्पताल गेट पर उसका इंतजार कर रहे बाइक लेकर खड़े युवक के साथ विकास चंपत होने में कामयाब हो गया। अस्पताल के कैदी वार्ड में बीस सिपाही तैनात है। ऐसी हालत में इस कहानी में कोई यकीन नहीं कर रहा है।

हालांकि दूसरे संतरी ने उसे दबोचने के लिए उसका पीछा भी किया। पर वह नौ-दो-ग्यारह हो गया। मगर सिपाही की आंखों में मिर्च पाउडर डालने वाला आयुष को पुलिसवालों ने गिरफ्त में ले लिया । उससे गहन पूछताछ की जा रही है। एसएसपी बताते है कि विकास झा दरभंगा के संतोष झा गिरोह का शार्प शूटर है। और पुलिस रेकॉर्ड का दागी है। उसके खिलाफ तेईस आपराधिक मामले दर्ज है। ऐसे वह बिहार के सीतामढ़ी ज़िले के बथनाहा ग़ांव का वाशिंदा है। उसकी गिरफ्तारी के लिए सभी थानों को अलर्ट किया गया है। साथ ही पुलिसियों के निलंबन के अलावे बगैर गंभीर बीमारी के किन हालात में बारह दोनों तक अस्पताल में उसे रखा गया, इसकी जांच कराई जा रही है।

जेएलएन भागलपुर मेडिकल कालेज अस्पताल के कैदी वार्ड से फरार कुख्यात सजायाफ्ता बंदी विकास झा मामले में मंगलवार को हवलदार महेश पासवान और तीन जेल के सिपाहियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। एसएसपी आशीष भारती के मुताबिक तीनों सिपाहियों के नाम रंजन कुमार मंडल, सियाराम कुंवर और दीनानाथ सिंह है।

एसएसपी ने बताया कि थाना कोतवाली में इस सिलसिले में प्राथमिकी दर्ज कर जांच कराई गई। जिसमें इनकी भूमिका शक के घेरे में है। इनके खिलाफ भ्र्ष्टाचार निरोधक दफा 7 ए 1988 भी लगाई गई है। डाक्टर और दूसरे जेल अधिकारियों की भूमिका की भी जांच गहराई से कराई जा रही है। संदिग्ध पाए जाने पर आगे की कार्रवाई की बात एसएसपी ने कही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 प्रधानमंत्री आवास योजना की मजदूरी में घोटाले से हड़कंप
2 सरकार की अनदेखी से सौर ऊर्जा में पिछड़ता राज्य
3 उत्तराखंडः हर साल उपजाऊ मिट्टी बह जाती है मैदानों की ओर