ताज़ा खबर
 

Haryana: खाने में 1 रोटी कम मिलने से नाराज था नौकर, गुस्सा बढ़ा तो चाकू से रेत दिया मालकिन का गला

हरियाणा के यमुनानगर में एक नौकर ने अपनी मालकिन की कम खाना देने के चलते हत्या कर दी। उसने कहा कि उसकी मालकिन उसे चार की जगह 3 ही रोटी खाने को देती थी।

knifeप्रतीकात्मक तस्वीर फोटो सोर्स- जनसत्ता

हरियाणा के यमुनानगर की न्यू जैन नगर कॉलोनी में खाने में कम रोटी मिलने के चलते हत्या का मामला सामने आया है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक यहां पर एक नौकर ने खाने में एक रोटी कम मिलने के चलते अपनी मालकिन की गला रेतकर हत्या कर दी। पुलिस द्वारा घटना की जानकारी शुक्रवार (17 मई) को दी गई। आरोपी नौकर ने बताया कि उसकी मालकिन उसे खाने में चार की बजाए तीन रोटी ही खाने को देती थी, जबकि उसे चार रोटी की भूख होती थी। उसने कहा कि मांगने के बावजूद वह उसे रोटी नहीं देती थी। इसी के चलते उसने अपनी मालकिन की हत्या कर दी।

शादी के बाद मिलने लगा कम खानाः पुलिस द्वारा पूछताछ में आरोपी नौकर ने बताया कि पिछले साल उसके मालिक दीपांशु की शादी रोजी नाम की महिला के साथ हुई थी। इसके बाद से ही उसे कम खाना मिलने लगा था। आरोपी ने बताया कि गुरुवार (16 मई) को उसने मालकिन रोजी से खाना मांगा, लेकिन रोजी ने कहा कि जब तक दीपांशु नहीं आ जाते तब तक वह खाना नहीं बनाएगी। कम रोटी मिलने के चलते वह पहले ही गुस्से में था। खाना बनने में देरी की बात सुनकर उसका गुस्सा बढ़ गया। उसने रसोई से चाकू लेकर रोजी का गला रेत कर हत्या कर दी।

National Hindi News, 18 May 2019 LIVE Updates: दिनभर की बड़ी खबरों के लिए क्लिक करें

किसी को शक न हो इसलिए भागा नहींः आरोपी ने पुलिस को पूछताछ से दौरान बताया कि मालकिन की हत्या के बाद उसने चाकू धोकर वापस रसोई में रख दिया और खून से लगे अपने कपडे़ धोए। इसके बाद उसने मालिक दीपांशु को फोन कर झूठी कहानी सुनाई कि मालकिन दरवाजा नहीं खोल रही। इसके बाद दीपांशु आनन-फानन में घर पहुंचे और उन्हें रोजी की हत्या का पता चला। आरोपी ने बताया कि किसी को उस पर शक न हो इसलिए वह मौके से नहीं भागा। आरोपी राजेश को पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है।

Next Stories
1 Varanasi: ड्यूटी पर था फौजी, चोरों ने घर में बोला धावा और ले गए नकदी समेत लाखों के जेवर
2 New Delhi: रोहिणी सेक्टर-11 में युवक को सिलसिलेवार गोलियां मारकर भागे गुंडे, सामने आया फायरिंग का वीडियो
3 पूर्व सैनिकों की मदद के फंड में ‘योगदान’ के लिए काटी कर्मचारियों की सैलरी, कहा- विरोध मत करें, यह राष्ट्रीय कर्तव्य
यह पढ़ा क्या?
X