अस्पताल का हाल बेहालः वार्ड में कोविड और नॉन कोविड मरीज एक साथ करा रहे इलाज, मरीज बोले- ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही

उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड-19 से 266 और लोगों की मौत हो गई तथा 29,824 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है।

covid-19, corona virusकानपुर में ऑक्सीजन की आपूर्ति और रिफिलिंग स्टेशनों के बाहर लंबी लाइनें हैं। (फोटो-अवनीश मिश्रा- इंडियन एक्सप्रेस)

कोरोना महामारी के दौरान मरीजों के साथ लापरवाही की शिकायतें लगातार की जा रही हैं। सरकारी अस्पतालों में हालात यह है कि कोविड और नॉन कोविड मरीज एक ही वार्ड में रखे गए हैं। इसके चलते संक्रमण बढ़ने की आशंका तेज हो गई है। मरीज भगवान भरोसे अस्पतालों में पड़े हैं।

कानपुर के हैलट अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में मीडिया के सामने मरीजों ने इस बात की पुष्टि की कि जिन्हें कोरोना है और जिन्हें कोरोना नहीं है, वे सब एक ही साथ एक ही वार्ड में रखे गए हैं। इसके साथ ही मरीजों ने शिकायत की डॉक्टर उन्हें बेवजह दौड़ा रहे हैं, जिनका ऑक्सीजन लेवल काफी कम हो गया है, उन्हें भी ऑक्सीजन नहीं मिल रही है। इलाज के नाम पर डॉक्टर केवल लोगों से यह लिखवाते हैं कि “कुछ होने पर हम जिम्मेदार नहीं हैं।” न तो दवाइयां मिल रही हैं और न ही कोई सुनवाई हो रही है। मरीजों का कहना है कि सीनियर डॉक्टर तो आते नहीं है, पूरा अस्पताल जूनियर डॉक्टर के भरोसे चल रहा है।

उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड-19 से 266 और लोगों की मौत हो गई तथा 29,824 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है।स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुधवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक 24 घंटों के दौरान राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमित 266 और लोगों की मौत हो गई। इसके साथ ही राज्य में अब तक इस वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 11,943 हो गई है।

रिपोर्ट के अनुसार 24 घंटों के दौरान सबसे ज्यादा 21 मौतें प्रयागराज में हुई हैं। इसके अलावा हरदोई में 15, वाराणसी में 14, कानपुर नगर और लखनऊ में 13-13, गौतम बुद्ध नगर और गाजियाबाद में 12-12 तथा आगरा में 10 मरीजों की मृत्यु हुई है। पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में 29,824 नए मरीजों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है। हालांकि इसी अवधि में 35,903 मरीज ठीक भी हुए हैं।

कांग्रेस महासचिव तथा पार्टी की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाद्रा द्वारा छत्तीसगढ़ सरकार के जरिए भेजा गया ऑक्सीजन टैंकर बुधवार को लखनऊ स्थित मेदांता अस्पताल पहुंचा।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस के संयोजक (संगठन) ललन कुमार ने बताया कि पार्टी ने लखनऊ के विभिन्न अस्पतालों में संपर्क कर पूछा था कि उन्हें ऑक्सीजन की जरूरत तो नहीं है, जिसके बाद प्रियंका ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से कहकर ऑक्सीजन का एक टैंकर लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भिजवाया है।

Next Stories
1 कोरोना संकट के दौर में भी भाजपा की मेगा रैली, हाई कोर्ट की भी नहीं सुनी
2 महाराष्ट्र में फ्री में लगेगा कोरोना का टीका, फिर बढ़ाया जा सकता है लॉकडाउन
3 कोविड मरीज की मौत, भड़के परिजनों ने की मारपीट, कमरे में बंद हो गए डॉक्टर
यह पढ़ा क्या?
X