ताज़ा खबर
 

जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी चाहिए तो देनी होगी नेता या पार्टी से रिश्तों से लेकर पुराने फोन और गाड़ी नंबर तक की जानकारी

सरकारी नौकरी में चयन होने पर अभ्यर्थी को पिछले पांच साल इस्तेमाल किए गए मोबाइल नंबर, बैंक खाते, वाहन, 15 वर्ष की आयु के बाद की शिक्षा और ससुरालियों की जानकारी देनी होगी।

जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी के लिए अब देनी होगी निजी जानकारी। (express file)

जम्मू कश्मीर में अब सरकारी नौकरी के लिए अभ्यर्थी को कई निजी जानकारी देनी होगी। सरकारी नौकरी के लिए किसी नेता या पार्टी से जुड़े रिश्तों की पूरी जानकारी देनी होगी। इसके अलावा पुराने फोन और गाड़ी नंबर तक की जानकारी देनी होगी। जिसकी जांच सीआईडी विंग करेगा। अब कोई भी व्यक्ति सीआईडी की सत्यापन रिपोर्ट के बिना सरकारी नौकरी नहीं कर सकता।

जम्मू और कश्मीर सिविल सेवा (चरित्र और पूर्ववृत्त का सत्यापन) निर्देश, 1997 में केंद्र शासित प्रदेश प्रशासन की तरफ से ये संशोधन किया गया है। इसके तहत सरकारी नौकरी में चयन होने पर अभ्यर्थी को पिछले पांच साल इस्तेमाल किए गए मोबाइल नंबर, बैंक खाते, वाहन, 15 वर्ष की आयु के बाद की शिक्षा और ससुरालियों की जानकारी देनी होगी। इसके अलावा माता-पिता, पति या पत्नी, बच्चों और सौतेले बच्चों के अलावा सास-ससुर, साले और ननद की नौकरी का भी विवरण देना होगा

बैंक अथवा किसी वित्तीय संस्था से ऋण लिया है तो वो भी बताना होगा। अभ्यर्थी की ओर से दी गई इस जानकारी की पुलिस की सीआईडी विंग जांच करेगी, जिसके बाद ही नियुक्ति की जाएगी।इसका फैसला कुछ महीने पहले ही कर लिया गया था, लेकिन इसे लेकर आदेश अब जारी किया है। पिछले वर्ष मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाले एक पैनल ने इसकी सिफारिश की थी।

हालांकि आदेश यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि क्या उम्मीदवारों को उनके या उनके परिवार की पिछली गतिविधियों के कारण नौकरी से वंचित किया जा सकता है। एक नौकरशाह ने बताया कि इस नियम के चलते अब सरकारी नौकरी पाना आसान नहीं होगा। वहीं एक वरिष्ठ वकील ने इस संशोधन को असंवैधानिक बताया है।

सीआईडी की सत्यापन रिपोर्ट के लिए व्यक्ति को यह भी बताने की आवश्यकता होगी कि वो खुद या उसके परिवार का कोई सदस्य या करीबी रिश्तेदार किसी राजनीतिक दल या संगठन से जुड़ा है या नहीं, या किसी राजनीतिक गतिविधि का हिस्सा है या नहीं, इसी के साथ किसी विदेशी मिशन या संगठन, या जमात-ए-इस्लामी जैसे किसी प्रतिबंधित संगठन के साथ संबंध रखता है या नहीं?

Next Stories
1 हनुमान को मार दिया जाये और राम देखते रहें, यह ठीक नहीं, प्रधानमंत्री मोदी से चिराग पासवान की गुहार
2 यूपी में मुख्यमंत्री चेहरे पर गहमागहमी के बीच BJP केंद्रीय दस्ते का दौरा खत्म, बीएल संतोष बोले- पार्टी के पास मोदी-योगी जैसे नेता
3 दो दिन के दिल्ली प्रवास के बाद अमरिंदर पंजाब रुखसत, नहीं हुई सोनिया-राहुल से मीटिंग, पार्टी में एकता के लिए दिया ये सुझाव
ये पढ़ा क्या?
X