ताज़ा खबर
 

मोदी सरकार-1 में मंत्री रहे बीजेपी सांसद का राज्यसभा से इस्तीफा, बोले- पहली बार मेरा हिसाब-किताब गड़बड़ाया

सैमको में म्यूचुअल फंड डिस्ट्रिब्यूशन कारोबार के प्रमुख ओमकेश्वर सिंह ने कहा कि हालांकि प्रति महीने शेयरों में निवेश सकारात्मक रहा है, लेकिन अगर हम ‘सिस्टैमेटिक इनवेस्टमेंट प्लान’ (सिप) प्रवाह को हटा दें, यह प्रवाह नकारात्मक हो जाता है। यानी निवेश कम हुआ है।’’ सिप के जरिये निवेशक निश्चित राशि निश्चित अवधि पर लगाते हैं।

Author जींद (हरियाणा) | Updated: November 17, 2019 11:32 PM
पूर्व केन्द्रीय मंत्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह

पूर्व केन्द्रीय मंत्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह ने रविवार को कार्यकर्ता से बातचीत के दौरान उचाना में कहा कि वह उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू को राज्यसभा की सदस्यता से अपना इस्तीफा सौंपकर सीधे उनके बीच आए हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि अब वह यहीं रहकर स्थानीय राजनीति करेंगे। राजीव गांधी महाविद्यालय, उचाना में देर शाम कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा, ‘‘मैं हर चुनाव में हिसाब-किताब लगा लेता था, लेकिन पहली बार ऐसा हुआ जब खुद का हिसाब-किताब गड़बड़ाया है।’’

कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश में हमारी सरकार बनी है, ऐसे में कुछ सीटों पर मिली हार से आप मायूस ना हों। आप हमारे लिए सिर्फ कार्यकर्ता नहीं बल्कि साथी हैं। विपक्ष पर निशाना साधते हुए सिंह ने कहा कि चुनाव में भ्रामक प्रचार किया गया कि हमारे परिवार के तीन सदस्य राजनीति में हैं। लेकिन जो यहां से विधायक चुना गया है उनके परिवार के पांच लोग विधायक बने हैं।

ऐसे भ्रामक प्रचार का भी हमें नुकसान हुआ है। बैठक में कार्यकर्ताओं से हार के कारणों के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ में गर्दन काट दूंगा जैसा बयान, इस यात्रा से हुई गुटबाजी आदि मुख्य कारण हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 राम मंदिर के डिजाइन की तरह दिखेगा अयोध्या रेलवे स्टेशन का बाहरी हिस्सा
2 अयोध्या मामले के मुख्य वादी इकबाल अंसारी रिव्यू पिटीशन के खिलाफ, फैसले से संतुष्ट
जस्‍ट नाउ
X