ताज़ा खबर
 

उन्नाव मामले में छात्रा ने पुलिस अधिकारी से पूछे थे सवाल, अब परिवार डर के चलते नहीं भेज रहा स्कूल!

11वीं कक्षा की छात्रा के परिजनों का कहना है कि वे स्कूल के प्रिंसिपल से सोमवार को मुलाकात करेंगे। इसके बाद तय किया जाएगा कि छात्रा को दोबारा स्कूल कब से भेजा जाए।

Author लखनऊ | Published on: August 2, 2019 9:54 AM
उन्नाव केस को लेकर 11वीं की छात्रा ने पूछे थे तीखे सवाल। फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी से उन्नाव केस का हवाला देते हुए महिलाओं की सुरक्षा के मद्देनजर सवाल पूछना 11वीं की छात्रा का भारी पड़ गया है। बताया जा रहा है कि डर के चलते परिजन उसे स्कूल ही नहीं भेज रहे हैं। गौरतलब है कि छात्रा के सवालों का वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था, जिसमें पुलिस अफसर ने चुप्पी साध ली थी।

पहले प्रिंसिपल से मिलेंगे परिजन: 11वीं कक्षा की छात्रा के परिजनों का कहना है कि वे स्कूल के प्रिंसिपल से सोमवार को मुलाकात करेंगे। इसके बाद तय किया जाएगा कि छात्रा को दोबारा स्कूल कब से भेजा जाए। लड़की के पिता का कहना है कि मेरी बेटी अभी छोटी है और भोली है। उसने अखबारों में जो पढ़ा और टीवी पर जो देखा, बोल दिया। उसने अपनी बात काफी अच्छे तरीके से रखी और स्कूल के बाकी बच्चों को उस पर गर्व है।

National Hindi News, 02 August 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

बालिका सुरक्षा कार्यक्रम में पूछा गया था सवाल: बता दें कि अडिशनल सुपरिंटेंडेंट ऑफ पुलिस (नॉर्थ) रामसेवक गौतम बालिका सुरक्षा जागरूकता अभियान कार्यक्रम के तहत बाराबंकी स्थित स्कूल गए थे और छात्राओं से बात कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने एक टोल फ्री नंबर भी दिया था, जिस पर छात्राएं उनसे बात कर सकती हैं।

Bihar News Today 2 August 2019: मुजफ्फरपुर में 7वीं के छात्र की चाकू मारकर हत्या, इलाके में तनाव

इन सवालों पर चुप हो गए थे अफसर: इस दौरान 11वीं की छात्रा ने पूछा था, ‘‘अगर पीड़ित आम आदमी है तो हम प्रदर्शन कर सकते हैं, लेकिन अगर वह नेता है और ताकतवर शख्स है तो उसका विरोध कैसे किया जा सकता है? हम यह जानते हैं कि अगर हम किसी हाई प्रोफाइल व्यक्ति के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे तो उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी। हमने देखा कि उन्नाव की लड़की अस्पताल में है। ऐसे में अगर हम विरोध जताते हैं तो इस बात की क्या गारंटी है कि हमें न्याय मिलेगा? क्या गारंटी है कि हम सुरक्षित रहेंगे? क्या गारंटी है कि हमारे साथ कुछ नहीं होगा?’’ जब छात्रा ने ये सवाल पूछे थे तो बाकी बच्चे उसकी प्रशंसा कर रहे थे। लड़की के सवालों पर पुलिस अफसर ने चुप्पी साध ली थी। उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि टोल फ्री नंबर पर की गई सभी शिकायत को मदद मुहैया कराई जाएगी।

प्रियंका गांधी ने भी साधा था निशाना: छात्रा का वीडियो वायरल होने के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी यूपी की बीजेपी सरकार पर निशाना साधा था। उन्होंने लिखा था, ‘‘अगर कोई प्रभावशाली व्यक्ति कुछ गलत करता है तो हमारी आवाज कौन सुनेगा? एक छात्रा ने जागरूकता रैली के दौरान यह सवाल पूछा है। उत्तर प्रदेश की हर महिला व लड़की के दिमाग में यही सवाल है। बीजेपी जवाब दे।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 उन्नाव रेपकांड: सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद रेप पीड़िता और उसके परिवार की सुरक्षा में CRPF तैनात
2 Good News: अब महिलाएं भी कर सकेंगी नाइट शिफ्ट, गोवा विधानसभा में पास हुआ विधेयक
3 तीन तलाक पर बोले ममता बनर्जी के मंत्री- नहीं मानेंगे यह कानून, इस्लाम पर है हमला