ताज़ा खबर
 

Independence Day: लाल किले पर पीएम मोदी का भाषण सुनने के बाद स्कूली बच्चों ने उठाया कूड़ा, लोगों के लिए कायम की मिसाल

राजकीय सर्वोदय विद्यालय यमुना विहार में पढ़ाने वाले राज कुमार मौर्य ने कहा कि उनके छात्रों ने खुद से कचरा इकट्ठा करने की इच्छा जताई और सबके जाने का इंतजार करते रहे।

Author नई दिल्ली | Published on: August 15, 2019 3:36 PM
स्वतंत्रता दिवस पर बच्चों से मिलते पीएम मोदी फोटो सोर्स- @narendramodi

स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण सुनने के लिए लाल किला पहुंचे कई बच्चे समारोह के बाद मौके पर रुककर प्लास्टिक का कूड़ा, कप, केले के छिलके इकट्ठा करते नजर आए। इन बच्चों ने अपने इस कदम से दूसरों के लिए भी मिसाल पेश की। कई बच्चे प्लास्टिक का इस्तेमाल कम करने का समारोह से प्रधानमंत्री का संदेश लेकर गए।

छात्रों ने खुद कचरा उठाने की जताई इच्छाः राजकीय सर्वोदय विद्यालय, यमुना विहार में पढ़ाने वाले राज कुमार मौर्य ने कहा कि उनके छात्रों ने खुद से कचरा इकट्ठा करने की इच्छा जताई और सबके जाने का इंतजार करते रहे। उन्होंने कहा, ‘‘हम विद्यालयों में एकल इस्तेमाल वाली प्लास्टिक का इस्तेमाल कम करने पर जोर दे रहे हैं। बच्चों का समाज पर काफी प्रभाव होता है। वे घर पर, विद्यालय में और दूसरी जगहों पर अपना योगदान दे रहे हैं।’’

प्लास्टिक जमा कर कूड़ेदान में डालाःसर्वोदय कन्या विद्यालय नं.-1, यमुना विहार की दिपांशी तोमर (15) ने कहा कि छात्रों से कागज के थैलों में अपनी प्लास्टिक की बोतलों को इकट्ठा करने को कहा गया था। उन्होंने कहा, ‘‘हमनें यह सुनिश्चित किया कि कोई गंदगी न फैले। कुछ जगहों पर प्लास्टिक की बोतलें और थैलियां पड़ी हुई थीं, हमनें उन्हें इकट्ठा कर कूड़ेदान में डाला।’’ विद्यालय की ही लक्ष्मी ओम प्रकाश ने कहा कि प्लास्टिक की बोतलों से बचा जा सकता था। यें नालियों में फंस जाती हैं और पर्यावरण और जल निकायों को प्रदूषित करती हैं।

प्लास्टिक की बोतलें गत्ते के डिब्बे में की इकट्ठा :राजकीय सर्वोदय विद्यालय के आदित्य बालियान भी अपने दोस्तों के साथ प्लास्टिक की खाली बोतलें अपने दोस्तों के साथ एक गत्ते के डिब्बे में इकट्ठा कर रहे थे। बालियान ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री की बातें सभी के लिये प्रेरणा का काम करेंगी। उन्होंने एक मुद्दा उठाया है और हर किसी को इसमें अपना योगदान देने की जरूरत है। इसके लिये जरूरी है कि लोगों को प्लास्टिक के पर्यावरण और स्वास्थ्य पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों के बारे में बताया जाए।’’

प्रधानमंत्री से बहुत कुछ सीखाः कक्षा आठवीं की छात्रा कोमल ने कहा, ‘‘मैंने प्रधानमंत्री के भाषण से बहुत कुछ सीखा है। उन्होंने हमें काफी चीजें सिखाईं और प्लास्टिक छोड़कर कपड़े के थैले अपनाने की भी सलाह दी। मैं अप पॉलीथीन के इस्तेमाल से परहेज करूंगी और अपनी मां को भी कपड़े के थैले ही इस्तेमाल करने के लिये कहूंगी।’’ भाषा प्रशांत शाहिद

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Article 370: कश्मीर में माता पिता को विश्व कप विजेता वसीम और आमिर के फोन का इंतजार, दोनों को परिवार की चिंता
2 मध्य प्रदेशः मां-बेटी को उफनते नालों का सेल्फी लेना पड़ा भारी, उफान में बहने से तीन लोगों की मौत
3 UP: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया स्वतंत्रता दिवस पर बड़ा ऐलान, राज्य में कैद 73 कैदी होंगे रिहा
ये पढ़ा क्या?
X