सतीश चंद्र मिश्रा ने बताया- 370 पर बीएसपी ने क्यों दिया था बीजेपी का साथ, बोले- यूपी चुनाव अकेले लड़ेंगे

बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने योगी आदित्यनाथ सरकार के शासनकाल की तुलना इमरजेंसी से करते हुए कहा कि प्रदेश के लोग इस इमरजेंसी से बाहर निकलने के लिए तैयार हैं और मौका मिलते ही उन्हें हटा देंगे।

बसपा नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने संसद में अनुच्छेद 370 हटाने को लेकर भाजपा सरकार का समर्थन करने को लेकर कहा कि यह डॉ अंबेडकर की सोच के अनुरूप था। (एक्सप्रेस फोटो)

साल 2019 में केंद्र की मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटा दिया था। कई विपक्षी दलों ने सरकार के इस कदम का विरोध किया था। लेकिन मायावती की पार्टी बसपा ने संसद में सरकार के इस फैसले का समर्थन किया था। मायावती के इस फैसले ने कईयों को आश्चर्य में डाल दिया था। अब बसपा नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में इस बात का खुलासा किया है कि आखिर उनकी पार्टी ने संसद में भाजपा के इस कदम का क्यों समर्थन किया था। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि आने वाले उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में हम अकेले ही लड़ेंगे।

द इंडियन एक्सप्रेस के आइडिया एक्सचेंज कार्यक्रम में बोलते हुए बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि बसपा राष्ट्रीय और जनहित मुद्दों पर सावधानीपूर्वक विचार-विमर्श करने के बाद ही फैसला लेती है। साथ ही उन्होंने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने को लेकर भाजपा सरकार का समर्थन करने के सवाल पर कहा कि यह डॉ अंबेडकर की सोच के अनुरूप था। भाजपा भी इस कदम से हैरान थी, उन्हें भी नहीं पता था कि हम इस कदम का समर्थन करने जा रहे हैं। इसको लेकर हमारी सोच बहुत ही साफ़ थी कि जम्मू-कश्मीर में देश के बाकी हिस्सों की तुलना में मुसलमानों की संख्या कम होने के बावजूद इस कानून के हिसाब से वहां बाहर के लोगों से शादी करने, संपत्ति रखने और स्थायी नागरिक बनने पर प्रतिबंध हैं। 

इसके अलावा उन्होंने आगामी विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन करने के सवाल पर साल 2019 में समाजवादी पार्टी के साथ हुए गठबंधन के कड़वे अनुभव का हवाला देते हुए कहा कि उनकी पार्टी 2022 का विधानसभा चुनाव अकेले ही लड़ेगी। साथ ही उन्होंने 2007 की तरह ही इस बार के विधानसभा चुनाव में भी अपने दम पर सत्ता में लौटने का भरोसा जताया। उन्होंने कहा कि तब भी हम अकेले ही चुनाव लड़े थे. हमें उस समय भी कई लोग कमजोर समझते थे और उन्हें लगता था कि हमारी पार्टी ख़त्म हो गई है। लेकिन जब नतीजे घोषित हुए तो हमने सरकार बना ली।

इस दौरान बसपा नेता सतीश मिश्रा ने यह भी कहा कि भाजपा सरकार हर मोर्चे पर विफल रही है और बसपा आने वाले चुनाव में भाजपा का सफाया कर देगी। साथ ही उन्होंने योगी आदित्यनाथ सरकार के शासनकाल की तुलना इमरजेंसी से करते हुए कहा कि प्रदेश के लोग इस इमरजेंसी से बाहर निकलने के लिए तैयार हैं और मौका मिलते ही उन्हें हटा देंगे। इसके अलावा बसपा और सपा के अलग अलग चुनाव लड़ने पर भाजपा को फायदा होने के सवाल पर सतीश मिश्रा ने कहा कि उन्हें बिल्कुल भी फायदा नहीं होगा। इस बार कोई मतदाता या जनता उनके साथ नहीं है। 

इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान जब उनसे विपक्षी एकता को लेकर भी सवाल पूछा तो उन्होंने कांग्रेस पर भी जमकर निशाना साधा। मिश्रा ने कहा कि जब हमारे पास 40 से ज्यादा सांसद हुआ करते थे तो हमने उनका समर्थन किया लेकिन उन्होंने हमारे विधायकों को ही तोड़ दिया। एक तरफ आप बसपा को तोड़ने के लिए ये सब करते हैं। और दूसरी तरफ कहते हैं कि बसपा को हर हाल में आपके साथ खड़ा होना चाहिए।  

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट