ताज़ा खबर
 

सरकारी बंगला बचाने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ से मिले मुलायम सिंह यादव!

सुप्रीम कोर्ट ने बीते दिनों उत्तर प्रदेश सरकार को उस कानून को रद्द किया, जिसमें प्रदेश के पूर्व सीएम को आजीवन सरकार बंगला दिया जाता था। कोर्ट ने सभी पूर्व सीएम को आवंटित बंगले अवैध करार देते हुए जल्द से जल्द खाली करने के लिए कहा था। छह पूर्व मुख्यमंत्रियों में मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव, राजनाथ सिंह, कल्याण सिंह, एनडी तिवारी और मायावती के नाम हैं।

सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने सीएम योगी के साथ बुधवार दोपहर में उनके आवास पर बैठक की थी। (फोटोः फेसबुक)

समाजवादी पार्टी (सपा) के संरक्षक मुलायम सिंह यादव अपना सरकारी बंगला बचाने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बुधवार (16 मई) को मिले। दोनों नेताओं के बीच तकरीबन आधा घंटा हुई बातचीत में सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश की चर्चा हुई, जिसमें कोर्ट ने पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी आवास खाली करने के लिए आदेश दिया था। सपा सांसद ने बैठक में सीएम योगी से इस मसले पर कोई न कोई हल निकालने की बात पर बल दिया।

मुलायम ने सीएम योगी से कहा कि लखनऊ में चार और पांच विक्रमादित्य मार्ग स्थित उनके और बेटे अखिलेश यादव के सरकारी बंगले नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी और नेता विधान परिषद अहमद हसन के नाम आवंटित कर दिए जाएं। सपा सांसद के इस सुझाव पर सीएम योगी ने क्या कहा, यह बात अभी तक पता नहीं चल पाया है। दोनों नेताओं के बीच हुई बातचीत में एक सुझाव यह भी निकला कि कल्याण सिंह का आवास उनके पोते और राज्य मंत्री संदीप सिंह के नाम पर आवंटित कर दिया, जिससे यह बंगले बच सकते हैं।

याद दिला दें कि सुप्रीम कोर्ट ने बीते दिनों उत्तर प्रदेश सरकार को उस कानून को रद्द किया, जिसमें प्रदेश के पूर्व सीएम को आजीवन सरकार बंगला दिया जाता था। कोर्ट ने सभी पूर्व सीएम को आवंटित बंगले अवैध करार देते हुए जल्द से जल्द खाली करने के लिए कहा था। छह पूर्व मुख्यमंत्रियों में मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव, राजनाथ सिंह, कल्याण सिंह, एनडी तिवारी और मायावती के नाम हैं।

यूपी के पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव को लखनऊ में यह सरकारी बंगला आवंटित था। (एक्सप्रेस फोटोः विशाल श्रीवास्तव)

राज्य संपत्ति विभाग इनसे सरकारी बंगले खाली कराने के लिए अपनी ओर से तैयारी कर रहा है। विभाग इसी क्रम में अब सभी पूर्व सीएम को चिट्ठी भेजेगा। न्याय विभाग की तरफ से इस पर समहति भी आ गई है। मुख्यमंत्री की मुहर लगने के बाद इसे सभी पूर्व सीएम के पास भेजा जाएगा।

सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों को आवंटित किए गए सरकारी बंगले शहर के बेहद पॉश इलाके में हैं। खास बात है कि ये काफी बड़े क्षेत्रफल में होते है और सरकार ही इनका रख-रखाव करती है। सपा सांसद को विक्रमादित्य मार्ग पर स्थित बंगला साल 1992 में आवंटित किया गया था, जिस पर लगभग 26 साल से वह काबिज हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App