सपा नेता अपर्णा यादव ने किया NRC का समर्थन- पार्टी लाइन से हटकर BJP का लिया पक्ष

यह पहली बार नहीं है कि अपर्णा यादव ने बीजेपी का समर्थन किया है। पहले भी वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘स्वच्छ भारत’ अभियान की प्रशंसा कर चुकी हैं।

समाजवादी पार्टी की नेता और मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

समाजवादी पार्टी के संस्थापक और वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव ने एनआरसी का समर्थन कर फिर राजनीतिक माहौल गरम कर दिया है। उनकी पार्टी सपा इसके खिलाफ रही है। अपर्णा यादव ने एनआरसी का विरोध कर रहे लोगों पर सवाल भी उठाए। समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने एनआरसी का विरोध किया था और कहा था कि यह बांटने वाली राजनीति है।

अखिलेश यादव ने किया था एनआरसी का विरोध : अखिलेश यादव ने कहा था, “एनआरसी बीजेपी की ओर से लोगों को डराने का एक नया प्रयास है। यह बांटने और डराने की राजनीति है।” अपर्णा यादव ने अपने फेसबुक और ट्वीटर एकाउंट में लिखा, “जो लोग भारत के रहने वाले हैं, उन्हें एनआरसी से क्यों डर लगता है?” यह पहली बार नहीं है कि अपर्णा यादव ने बीजेपी का समर्थन किया है। पहले भी वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘स्वच्छ भारत’ अभियान की प्रशंसा कर चुकी हैं। इससे उनकी अपनी पार्टी के नेताओं में नाराजगी थी।

लखनऊ
अपर्णा यादव के ट्विटर एकाउंट पर उनका पोस्ट (फोटो सोर्स- ट्विटर)

Hindi News Today, 16 December 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

धारा 370 को हटाने का भी किया था समर्थन : उन्होंने मोदी सरकार की धारा 370 को हटाने का भी समर्थन किया था, जबकि उनकी पार्टी ने इसका विरोध किया था। इसके अलावा वह कई बार ऐसे बयान दे चुकी हैं, जो उनकी पार्टी लाइन के विरुद्ध रहा है। समाजवादी पार्टी में अपर्णा यादव मुखर नेता के रूप में जानी जाती हैं। उनके अपने कई विचार पार्टी की विचारधारा से अलग रहे हैं। खास बात यह है कि वह पार्टी मुखिया अखिलेश यादव और संस्थापक मुलायम सिंह यादव के परिवार की हैं।

2017 में वह लखनऊ कैंट से चुनाव लड़ी थीं : बहरहाल अखिलेश यादव के नजदीकी सहयोगी ने कहा है कि अपर्णा यादव लगातार पार्टी लाइन के खिलाफ काम कर रही हैं। उनके भविष्य के बारे में तय करने के लिए नेताजी मुलायम सिंह यादव ही निर्णय लेंगे। अपर्णा 2017 के विधानसभा चुनाव में लखनऊ कैंट सीट से खड़ी हुई थीं, लेकिन वह हार गई थीं।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
शी का रणनीतिक संबंधों को आगे बढ़ाने का आह्वान, मोदी ने उठाया घुसपैठ का मुद्दा