ताज़ा खबर
 

राज्‍यसभा चुनाव: सुब्रत राय को ले पर्चा भरने पहुंचीं जया बच्‍चन, डिंपल यादव भी थीं साथ

सपा की ओर से जया बच्‍चन को राज्‍यसभा का उम्‍मीदवार बनाने या न बनाने को लेकर काफी दिनों से अटकलें चल रही थीं। उनके द्वारा नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद अब इस पर विराम लग गया है। पर्चा दाखिल करने की अंतिम तारीख 12 मार्च तय की गई है। उच्‍च सदन की 58 सीटों के लिए 23 मार्च को मतदान होगा।

जया बच्‍चन ने शुक्रवार (9 मार्च) को लखनऊ में सपा की ओर से रज्‍यसभा के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया। उनके साथ सुब्रत राय सहारा और सपा सांसद डिंपल यादव भी थीं। (फोटो सोर्स: एएनआई)

जया बच्‍चन ने आखिरकार समाजवादी पार्टी की ओर से शुक्रवार (9 मार्च) को राज्‍यसभा का पर्चा दाखिल कर दिया। इस मौके पर उनके साथ सपा नेता और सांसद डिंपल यादव और सुब्रत राय सहारा मौजूद थे। सपा की ओर से राज्‍यसभा की उम्‍मीदवारी को लेकर पिछले कुछ सप्‍ताहों से अटकलों का बाजार गर्म था। नरेश अग्रवाल और जया बच्‍चन की दावेदारी को लेकर कयास लगाए जा रहे थे। जया बच्‍चन द्वारा उच्‍च सदन के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद आखिरकार शुक्रवार (9 मार्च) को इन अटकलों पर विराम लग गया। लोगों ने इसको लेकर तरह-तरह की टिप्‍पणी की है। नूरुद्दीन ने ट्वीट किया, ‘जया जी समाजवादी, बच्‍चन (अमिताभ बच्‍चन) जी गुजराती…वाह!’ अक्षर राजावत ने लिखा, ‘इस महिला ने अंतिम कार्यकाल में क्‍या किया? समाजवादी पार्टी…ऐसे काम नहीं बोलता।’ लोगों ने सुब्रत राय की मौजूदगी पर भी तीखी प्रतिक्रिया व्‍यक्त की है। सचिन शाह ने लिखा, ‘हजारों लोगों को बेसहारा करने वाले सहारा (सुब्रत राय) को जेल में नहीं होना चाहिए था?’ एक अन्‍य व्‍यक्ति ने लिखा, ‘सुब्रत राय जेल से बाहर? विजय माल्‍या को सकारात्‍मक फील करना चाहिए।’ जतिन शाह ने ट्वीट किया, ‘क्‍या सहारा ने सारे पैसे लौटा दिए?’

राज्‍यसभा की 58 सीटों के लिए 23 को वोटिंग: चुनाव आयोग ने 23 फरवरी को राज्‍यसभा की 58 सीटों के लिए तिथियों की घोषणा की थी। इसके अनुसार, पर्चा दाखिल करने की अंतिम तिथि 12 मार्च है। उम्‍मीदवार 15 मार्च तक अपना नाम वापस ले सकते हैं। अप्रैल से मई के दौरान कुल 16 राज्‍यों में 58 सीटें रिक्‍त हो रही हैं। उत्‍तर प्रदेश में सबसे ज्‍यादा 10 सीटें खाली होंगी। इसके अलावा बिहार और महाराष्‍ट्र के कोटे से 6-6 सीटें भरी जाएंगी। इसके लिए 23 मार्च को वोट डाले जाएंगे। काउंटिंग भी इसी दिन होगी। 16 में से 12 राज्‍यों में भाजपा या सहयोगी पार्टियों की सरकार है। ऐसे में बीजेपी का पलड़ा भारी है। बता दें कि भाजपा ने वित्‍त मंत्री अरुण जेटली को उत्‍तर प्रदेश से राज्‍यसभा भेजने का निर्णय लिया है। वहीं, थावर चंद गहलोत और धर्मेंद्र प्रधान को मध्‍य प्रदेश से उच्‍च सदन भेजा जाएगा। भाजपा ने केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री जेपी नड्डा और कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद को क्रमश: हिमाचल प्रदेश और बिहार से राज्‍यसभा भेजने का फैसला किया है। बीजेपी और कांग्रेस के साथ ही अन्‍य दल भी राज्‍यसभा चुनाव की तैयारियों में जुटे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App