ताज़ा खबर
 

अतिथि शिक्षकों के वेतन वृद्धि प्रस्ताव को मिली मंजूरी

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने गुरुवार को बताया कि दिल्ली सरकार के अतिथि शिक्षकों के वेतन बढ़ोतरी के प्रस्ताव को उपराज्यपाल अनिल बैजल की मंजूरी मिल गई है।

Author नई दिल्ली | March 3, 2017 1:22 AM
दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने गुरुवार को बताया कि दिल्ली सरकार के अतिथि शिक्षकों के वेतन बढ़ोतरी के प्रस्ताव को उपराज्यपाल अनिल बैजल की मंजूरी मिल गई है।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने गुरुवार को बताया कि दिल्ली सरकार के अतिथि शिक्षकों के वेतन बढ़ोतरी के प्रस्ताव को उपराज्यपाल अनिल बैजल की मंजूरी मिल गई है। उन्होंने कहा कि वेतन बढ़ोतरी पर अधिसूचना एक या दो दिनों में जारी की जाएगी।  उन्होंने कहा कि उपराज्यपाल की मंजूोरी पाने के पहले सिलसिलेवार कैबिनेट बैठक हुई। दिल्ली के अतिथि शिक्षक बहुत सारे मुद्दों का सामना कर रहे हैं जिसमें से एक कम वेतन है। इस कदम से शिक्षक गरिमामयी जिंदगी गुजार पाएंगे।

संशोधित वेतन ढांचे का विवरण देते हुए उन्होंने कहा कि स्नातकोत्तर शिक्षक (पीजीटी) को मौजूदा 21000 रुपए की जगह अब प्रतिमाह 34000 रुपए मिलेगा। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक (टीजीटी) को मौजूदा 18000 रुपए की जगह 33,000 रुपए मिलेगा। सहायक शिक्षकों का वेतन मौजूदा 16,000 रुपए की जगह 32000 रुपए होगा। मंत्री ने कहा कि प्रत्येक के लिए तकरीबन 70 से 80 फीसद की बढ़ोतरी होगी। इस कदम से 17000 शिक्षकों को फायदा होगा।

विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि अतिथि शिक्षकों की तनख्वाह बढ़ाना काफी समय से आवश्यक हो गया था। लेकिन मुख्यमंत्री और उनके कैबिनेट मंत्री दूसरे राज्यों के चुनावी प्रचार में व्यस्त रहे जिसके कारण वेतन वृद्धि में विलंब हुआ। अब उपमुख्यमंत्री यह दिखा रहे हैं कि, उनहोंने अध्यापकों पर बहुत बड़ एहसान किया है। वस्तुत: यह उनपर कोई एहसान नहीं अपितु उनका हक था, जो उन्हें काफी देर से मिला। गुप्ता ने कहा कि असली मुद्दा उन्हें नियमित करने का है। पिछले कई सालों से उनके सिर पर तलवार लटक रही है। दिल्ली के सरकारी स्कूलों में अध्यापकों के तीस हजार नियमित पद रिक्त पड़े हैं, उन्हें भरने के लिए तुरंत कार्रवाई की जानी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App