ताज़ा खबर
 

सरकारी नौकरियों के लिए दीवानगी का मतलब देश में बेरोजगारी से न लगाएं: रेल मंत्री

रेल मंत्री पीयूष गोयल का कहना है कि सरकारी नौकरियों में प्रदर्शन चाहे कैसा भी हो लेकिन नौकरी का सुरक्षित रहना, इसके आकर्षण की मुख्य वजह है।

Author नई दिल्ली | Updated: January 16, 2019 10:31 AM
economic survey, economic survey 2019, economic survey 2019 20, economic survey 2019 live, economic survey 2019 india, economic survey of india, economic survey 2019 20 pdf download, budget, budget 2019, budgets session, parliamentEconomic Survey 2019: आर्थिक सर्वेक्षण में मौजूदा के साथ आगामी वित्‍त वर्ष का भी उल्‍लेख किया जाता है।

रेल मंत्री पीयूष गोयल का कहना है कि सरकारी नौकरियों में प्रदर्शन चाहे कैसा भी हो लेकिन नौकरी का सुरक्षित रहना, इसके आकर्षण की मुख्य वजह है।  केंद्रीय मंत्री का कहना है कि इस तरह की नौकरियों में बड़ी संख्या में आवेदकों को देखकर यह नहीं समझा जाना चाहिए कि देश में रोजगार के अन्य अवसर उपलब्ध नहीं है। गोयल और मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर सीआईआई के नौकरी एवं आजीविका कार्यशाला में बोल रहे थे।  उन्होंने कहा कि सरकार ने पिछले पांच साल में काफी नौकरियां प्रदान की हैं । हालांकि आंकड़ों का संकलन करने वाले स्रोत इसे पकड़ने में असमर्थ रहे।

जावड़ेकर ने कहा कि वैसे लोग जो अपनी पसंद के कारण नौकरी नहीं करना चाहते हैं, उन्हें ‘बेरोजगार’ नहीं कहा जा सकता। रेल मंत्री ने रेलवे में कुछ पदों के लिए 1.5 करोड़ लोगों के आवेदन का हवाला देते हुए कहा कि इस तरह के आंकड़ों का इस्तेमाल देश में बेरोजगारी के दर को दिखाने के लिए किया जाता है। गोयल ने कहा, ‘‘ भारत में पारंपरिक रूप से लोगों में सरकारी नौकरियों के प्रति ज्यादा आकर्षण है। लोग सोचते हैं कि अगर उन्हें सरकारी नौकरी मिल जाए तो उन्हें पूरी जिंदगी चिंता करने की जरूरत नहीं है। वह स्थायी हैं और अगर वह गलत व्यवहार करते हैं या अपने काम में अच्छे भी नहीं पाए जाते तो भी कोई बात नहीं क्योंकि यूनियन यह सब देख लेंगे। यह वास्तविकता है।’

मंत्री ने कहा कि नौकरियों के वैकल्पिक अवसर बढ़े हैं और नए सेक्टर स्वरोजगार को बढ़ावा दे रहे हैं। ये आंकड़े श्रम आंकड़े में दर्ज नहीं हो रहे हैं। गोयल ने कहा कि सरकारी प्रणाली के उन्नयन और बदलाव की जरूरत है। जावड़ेकर ने कहा कि प्रामाणिक आकंड़ों को जमा किए जाने की जरूरत थी। मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा कि लोगों में ‘सरकारी नौकरियों के आकर्षण’ को समझने की जरूरत है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 उत्तराखंड: रावत सरकार पर भड़की महिला शिक्षक उत्तरा पंत, कहा- बेवजह 8 महीने से किया जा रहा परेशान
2 Kumbh Mela 2019: शाही स्नान से विदेशी संतों तक, जानें कैसा रहा पहला दिन
3 धनबाद-गोमो के रास्ते 15 से 28 जनवरी तक सफर करना होगा मुश्किल, डेढ़ दर्जन ट्रेनें रद्द, दो दर्जन का मार्ग बदला
ये पढ़ा क्या?
X