ताज़ा खबर
 

Uttarakhand: भेष बदलकर केदारनाथ यात्रा का जायजा लेने पहुंचे DM, कॉन्स्टेबल की ईमानदारी देख लिया यह फैसला

रूद्रप्रयाग के डीएम मंगेश घिल्डियाल भेष बदलकर केदारनाथ के रास्ते में पड़ने वाले मुख्य पड़ावों के इंतजामों का जायजा लेने के लिए भ्रमण पर थे। इस दौरान बार-बार आग्रह और पैसों का लालच दिए जाने के बाद भी कॉन्स्टेबल ने अधिकारी के वाहन को नहीं जाने दिया।

Author देहरादून | June 13, 2019 2:14 PM
प्रतीकात्मक फोटो फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

रूद्रप्रयाग के जिलाधिकारी ( डीएम) मंगेश घिल्डियाल पूरे समर्पण के साथ अपनी ड्यूटी करने वाले उस कॉन्स्टेबल को सम्मानित करेंगे जिसने हाल में उनके निजी वाहन को नियमों का हवाला देते हुए गौरीकुंड से आगे बढ़ने से रोक दिया था। घिल्डियाल केदारनाथ के रास्ते में पड़ने वाले मुख्य पड़ावों के इंतजामों का जायजा लेने के लिए गोपनीय रूप से भ्रमण पर थे। बार-बार आग्रह तथा पैसों का लालच दिए जाने के बावजूद कॉन्स्टेबल ने अधिकारी के वाहन को नहीं जाने दिया और उन्हें नियमों का उल्लंघन कर आगे जाने का प्रयास करने के दशा में जेल में डालने की भी चेतावनी दी। यह घटना रविवार ( 9 जून) की रात हुई जब घिल्डियाल हिमालयी धाम में व्यवस्थाओं का जायजा लेने के लिये गोपनीय रूप से एक पर्यटक के भेष में गये थे।

पैसों का दिया लालचःअधिकारी अपने निजी वाहन से रात करीब 12 बजे सोनप्रयाग पुलिस बैरियर पर पहुंचे लेकिन उस समय डयूटी पर तैनात कॉन्स्टेबल मोहन सिंह ने उनके वाहन को यह कहते हुए रोक दिया कि इस प्वाइंट के आगे निजी वाहनों को ले जाने पर रोक है। कॉन्स्टेबल का ड्यूटी के प्रति समर्पण का परीक्षा लेने के लिए टोपी और प्रदूषण रोधी मास्क लगाए घिल्डियाल ने उससे बार-बार उन्हें जाने देने का आग्रह किया तथा उसके नहीं मानने पर उसे 200 रू का ”सुविधा शुल्क” देने का भी लालच दिया लेकिन वह अपने कर्तव्य से नहीं डिगा। कॉन्स्टेबल ने जिलाधिकारी को तभी आगे जाने दिया जब उन्होंने अपना निजी वाहन सोनप्रयाग में ही छोड़ दिया।
National Hindi News, 12 June 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

कॉन्स्टेबल को करेंगे सम्मानितः घिल्डियाल ने कहा, ”श्रद्धालुओं के बड़ी संख्या में आने के कारण कर्मचारियों पर बहुत दबाव रहता है लेकिन ऐसे समय में भी वह कॉन्स्टेबल नियमों पर अड़ा रहा। ऐसा करके उसने अन्य कर्मचारियों के लिए भी एक उदाहरण प्रस्तुत किया है।” उन्होंने कहा कि वह व्यक्तिगत तौर पर उस कॉन्स्टेबल से मिलेंगे और उसे सम्मानित करेंगे। कॉन्स्टेबल के लिए नकद इनाम भेज दिया गया है जबकि उसे प्रशस्ति पत्र एक समारोह के दौरान प्रदान किया जायेगा।

गौरीकुंड में यात्रा व्यवस्था का लिया जायजाःगौरीकुंड में यात्रा संबंधी व्यवस्थाओं का जायजा लेने भेष बदलकर गए घिल्डियाल वहां अव्यवस्थाएं देखकर हैरान रह गए। जांच के दौरान शौचालय गंदे मिले जबकि पानी के नल सूखे थे और काम नहीं कर रहे थे। वहां का कुप्रबंधन और वहां तैनात कर्मचारियों का ड्यूटी के प्रति लापरवाह रवैया देखकर अधिकारी का पारा चढ़ गया। जिलाधिकारी ने बताया कि शौचालयों के खराब रखरखाव के लिए सुलभ इंटरनेशनल पर पांच लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया और जलसंस्थान को तत्काल नलों में पानी की आपूर्ति सुनिश्चित करने को कहा गया। उन्होंने बताया कि गौरीकुंड में एक दुकानदार से बैन के बावजूद पॉलिथीन बैग का इस्तेमाल करने के लिए पांच हजार रू का जुर्माना वसूला गया जबकि सीतापुर में खराब सफाई व्यवस्था के लिए एक ठेकेदार पर 15000 रुपये का जुर्माना लगाया गया। घिल्डियाल ने बताया कि उन्होंने रात घोड़ा पड़ाव में एक बेंच पर गुजारी लेकिन उन्हें घोड़े और खच्चर वाले किसी तरह का ज्यादा पैसा लेते नहीं दिखाई दिए जबकि उन्हें इस संबंध में कई शिकायतें मिली थीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X