ताज़ा खबर
 

RSS के सहयोगी संगठन की PM मोदी से मांग, Tik Tok और हेलो ऐप पर लगाया जाए बैन

आरएसएस के एक अनुषंगी संगठन ने पीएम मोदी से टिकटॉक और हेलो सोशल मीडिया ऐप को प्रतिबंधित करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि ये ऐप भारत के युवाओं के निहित हितों से प्रभावित होने का माध्यम बन रहे हैं।

Author नई दिल्ली | July 14, 2019 5:16 PM
प्रतीकात्मक फोटो फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के एक अनुषंगी संगठन ने रविवार (14 जुलाई) को यह दावा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ‘टिकटॉक’ और ‘हेलो’ को प्रतिबंधित करने की मांग की है कि ये दोनों चीनी सोशल मीडिया ऐप ‘‘राष्ट्रविरोधी’’ तत्वों का अड्डा बन गए हैं। स्वदेशी जागरण मंच (एसजेएम) के सह संयोजक अश्विनी महाजन ने मोदी को लिखे एक पत्र में दोनों ऐप को लेकर संगठन की चिताएं रेखांकित की। उन्होंने आरोप लगाया कि दोनों ऐप भारत के युवाओं के ‘‘निहित हितों’’ से प्रभावित होने का माध्यम बन रहे हैं।

टिक-टॉक राष्ट्रविरोधी सामाग्री का अड्डा बनाः महाजन ने कहा, ‘‘हाल के सप्ताहों में ‘टिकटॉक’ राष्ट्रविरोधी सामग्री का अड्डा बन गया है जिसे ऐप पर व्यापक रूप से साझा किया जा रहा है जो हमारे समाज के तानेबाने को नुकसान पहुंचा सकता है।’’उन्होंने ‘हेलो’ के बारे में आरोप लगाया कि ऐप द्वारा अन्य सोशल मीडिया मंचों पर 11 हजार से अधिक विरूपित राजनीतिक विज्ञापनों के लिए सात करोड़ रुपए का भुगतान करने का पता चला।
National Hindi News, 14 July 2019 LIVE Updates: पढ़ें आज की बड़ी खबरें

भारतीय नेताओं की तस्वीरों का किया गया इस्तेमालःसह संयोजक महाजन कहा, ‘‘इन विज्ञापनों में से कुछ में वरिष्ठ भारतीय नेताओं की विरूपित की गई तस्वीरों का इस्तेमाल किया गया। भाजपा के पदाधिकारियों ने स्वयं पिछले आम चुनावों के दौरान इन ंिचताओं को लेकर चुनाव आयोग को पत्र लिखे थे।’’ महाजन ने मांग की कि गृह मंत्रालय देश में ‘टिकटॉक’ और ‘हेलो’ सहित इन चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाये। उन्होंने कहा, ‘‘ऐसा इसलिए क्योंकि चीनी प्रतिष्ठानों में से कुछ इकाइयों के भारत की संप्रभुता और अखंडता को लेकर नकरात्मक इरादें हैं।’’ स्वदेशी जागरण मंच के सह संयोजक ने दावा किया कि ‘टिकटॉक’ और चीन सरकार के हस्तक्षेप के गठजोड़ का इस्तेमाल भारतीय नागरिकों के निजी जीवन तक पहुंच बनाने और देश में ‘‘सामाजिक उथल..पुथल उत्पन्न करने’’ के लिए किया जा सकता है।

जताई चिंताः महाजन ने चिंता जताई कि भारत में वर्तमान में एंड्रायड मोबाइल फोन में प्लेस्टोर और आईफोन में ऐपस्टोर द्वारा मुहैया कराये जाने वाले ऐप की निगरानी की कोई व्यवस्था नहीं है। उन्होंने सरकार से एक नया कानून बनाने का आग्रह किया जो ‘‘हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ ही नागरिकों की निजता की सुरक्षा’’ के लिए ऐसे ऐप के लिए जांच और नियमन जरूरी बनाए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App