ताज़ा खबर
 

RSS नेता इंद्रेश कुमार ने कहा- लिखकर ले लीजिए, 2025 के बाद भारत का हिस्सा होगा पाकिस्‍तान

RSS के वरिष्ठ नेता इंद्रेश कुमार का कहना है कि 2025 के बाद पाकिस्तान दोबारा भारत का हिस्सा बन जाएगा। उन्होंने बताया कि बांग्लादेश सरकार भी इसके लिए तैयार है।

RSS के वरिष्ठ नेता इंद्रेश कुमार। फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के वरिष्ठ नेता इंद्रेश कुमार ने दावा किया है कि 2025 के बाद पाकिस्तान भारत का हिस्सा बन जाएगा। यह बात उन्होंने मुंबई में आयोजित ‘कश्मीर-वे अहेड’ कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा, ‘‘आप लिखकर ले लीजिए। 5-7 साल बाद आप कहीं कराची, लाहौर, रावलपिंडी, सियालकोट में मकान खरीदेंगे और बिजनेस करने का मौका मिलेगा।’’

बांग्लादेश सरकार के साथ होने का दावा किया : इंद्रेश कुमार ने कहा, ‘‘1947 से पहले पाकिस्तान नहीं था। लोग कहते हैं कि 1945 के पहले वो हिंदुस्तान था। 2025 के बाद से फिर वो हिंदुस्तान होने वाला है।’’ उन्होंने ‘अखंड भारत’ की उम्मीद जताते हुए हिंदुस्तान की सीमाएं यूरोपीय संघ की तरह होंगे। उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली यह स्पष्ट कर चुकी है कि बांग्लादेश सरकार भी इसके लिए तैयार है।’’

यूरोपियन यूनियन का दिया हवाला : आरएसएस के वरिष्ठ नेता बोले, ‘‘भारत सरकार ने पहली बार कश्मीर में टफ लाइन दी है, क्योंकि सेना पॉलिटिकल विलपावर के हिसाब से काम करती है। अब राजनीतिक इच्छाशक्ति बदल गई है, इसलिए हम सपने लेकर बैठे हैं कि लाहौर जाकर बैठेंगे और कैलाश मानसरोवर के लिए चीन से इजाजत नहीं लेनी पड़ेगी। ढाका में हमने अपने हाथ से सरकार बनाई है। ऐसे में हिंदुस्तान यूरोपियन यूनियन की तरह भारतीय यूनियन ऑफ अखंड भारत के जन्म लेने के रास्ते पर जा सकता है।’’

विपक्षी दलों पर भी बोला हमला : इंद्रेश कुमार ने कहा कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद मोदी सरकार की कार्रवाई से विपक्षी नेता भी हैरान हैं। उन्होंने देश को धोखा देने वालों के खिलाफ कानून लाने की बात कही, जिससे यहां न कोई नसीरूद्दीन हो और न ही हामिद अंसारी और नवजोत सिंह सिद्धू। उन्होंने कहा, ‘‘सेना की तारीफ करते-करते सबूत मांगने लगते हैं और मोदी का विरोध करते-करते ‘आई लव यू पाकिस्तान’ कहने लगे हैं। ऐसे गद्दारों के लिए, चाहे वे जेएनयू में पढ़ें या महाराष्ट्र में, देश को नया कानून लाना है। तो फिर न नसीरूद्दीन चलेगा, न हामिद अंसारी चलेगा और न ही नवजोत सिद्धू।’’

जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे पर भी की टिप्पणी : आरएसएस नेता ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा दिए जाने पर भी सवाल उठाया। उन्होंने कहा, ‘‘संविधान एक देश, एक नागरिकता और एक तिरंगे की बात कहता है। अगर यह सभी राज्यों पर लागू होता है तो जम्मू-कश्मीर के लिए अलग संविधान, झंडा और नागरिकता क्यों है? सभी कश्मीरियों के लिए पूरा देश खुला हुआ है, लेकिन सभी हिंदुस्तानियों के लिए कश्मीर के रास्ते क्यों खुले नहीं हैं? अगर सभी कश्मीरियों के लिए मुंबई के रास्ते खुले हुए हैं तो सभी मुंबई वाले कश्मीर क्यों नहीं जा सकते हैं? यह सांप्रदायिकता, कट्टरवाद, लोकतंत्र की हत्या और अन्याय है।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App