rosa iftar on maha kameshwar ghat in lucknow orgainsed by mahant devya giri - सांप्रदायिक सौहार्द का अनोखा नजारा, पुजारियों ने परोसी इफ्तारी, साथ में हुई नमाज और आरती - Jansatta
ताज़ा खबर
 

सांप्रदायिक सौहार्द का अनोखा नजारा, पुजारियों ने परोसी इफ्तारी, साथ में हुई नमाज और आरती

एक खास बात यह भी है कि इफ्तार में हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सभी धर्मों के लोगों ने हिस्सा लिया। करीब 1000 लोगों ने इसमें शिरकत की। संभवत: यह पहला मौका है जब लखनऊ के किसी मठ-मंदिर में इफ्तार का आयोजन किया गया था।

Author June 11, 2018 12:36 PM
लखनऊ केमहाकामेश्वर घाट पर इफ्तार का हुआ आयोजन। फोटो सोर्स- फेसबुक

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आपसी सौहार्द की अद्भुत मिसाल देखने को मिली है। लखनऊ के प्रसिद्ध और पुराने शिव मंदिर के पास स्थित मनकामेश्वर घाट पर रविवार (10 मई) को इफ्तार का आयोजन किया गया। एक तरफ शिव मंदिर में भोलेनाथ की आरती और दूसरी तरफ अल्लाहु अकबर की सदाएं यहां अद्भुत नजारा पेश कर रही थीं। पहली बार हिंदुओें के इस प्रमुख धार्मिक स्थल पर इफ्तार का आयोजन किया गया था। गोमती तट पर आय़ोजित इस इफ्तार को लेकर पिछले हफ्ते भर से तैयारी चल रही थी। इफ्तार करने वाले मुस्लिम भाइयों के लिए मठ की ओर से खास पकवान तैयार किया गया था। मठ की तरफ से खजूर, फिंगर चिप्स, कटलेट्स, ब्रेड, पकौड़ा, मीठे खुरमे, फल इत्यादि का इंतजाम किया गया था।

एक खास बात यह भी है कि इफ्तार में हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सभी धर्मों के लोगों ने हिस्सा लिया। करीब 1000 लोगों ने इसमें शिरकत की। संभवत: यह पहला मौका है जब लखनऊ के किसी मठ-मंदिर में इफ्तार का आयोजन किया गया था। मनकामेश्वर उववन घाट को फूलों और रंगोली से सजाया गया था। गंगा-जमुनी तहजीब को आगे बढ़ाने वाली इस इफ्तार में रोजा खोलने से पहले दोनों ही समुदाय के लोगों ने अमन-चैन की दुआ भी मांगी। इफ्तारी के दौरान मंदिर के पुजारी रोजदारों को प्रेम पूर्वक इफ्तारी परोसते नजर आए। इफ्तार के बाद रोजदारों ने घाट पर मगरिब की नमाज भी अदा की। सभी धर्मों के लोगों ने एक-दूसरे के गले लगाकर बधाइयां भी दीं।

मनकामेश्वर मठ की महंत देव्या गिरि खुद रोजा खोलने आए मुस्लिम भाइयों का विशेष ख्याल रख रही थीं। महंत देव्या गिरी ने कहा कि संपूर्ण विश्व को आपसी प्रेम और भाईचारा का संदेश देने की उनकी यह कोशिश आगे भी जारी रहेगी। उन्होंने यह भी कहा है कि आने वाले समय में भी ऐसे आयोजन किये जाएंगे। रोजा इफ्तार में ऐशबाग ईदगाह के नायाब इमाम मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली के साथ ही मौलाना सुफियान निजामी, नवाब मीर जाफर अब्दुल्लाह, समेत कई लोग मौजूद रहे।

देखें वीडियो:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App