ताज़ा खबर
 

एचसीयू छात्र संघ ने कुलपति को हटाने की मांग का प्रस्ताव पारित किया

हैदराबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ ने 30 मार्च को विश्वविद्यालय से संबंधित मुद्दों के समाधान के लिए राष्ट्रपति से हस्तक्षेप करने और अप्पा राव की बर्खास्तगी सुनिश्चित करने की मांग की थी।

Author हैदराबाद | Published on: April 13, 2016 11:19 PM
Hyderabad University, Hyderabad Dalit professor, Hyderabad University Rohith vemula, Hyderabad University latest news, Hyderabad University Pro Vice Chancellorहैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय (एचसीयू) (फाइल फोटो)

हैदराबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ ने एक प्रस्ताव पारित कर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अप्पा राव पोडिल के इस्तीफे या उन्हें पद से हटाने की मांग की है। विश्वविद्यालय की आमसभा की बैठक (यूजीबीएम) मंगलवार को हुई, 949 छात्रों ने इसमें हिस्सा लिया और छह प्रस्ताव पारित किए। इसमें एक दलित शोधार्थी रोहित वेमुला के लिए शोक प्रस्ताव भी शामिल था। प्रस्तावों को सर्वसम्मति से पारित किया गया। वेमुला ने जनवरी में कथित तौर पर हॉस्टल रूम में आत्महत्या की थी। यूजीबीएम विश्वविद्यालय के छात्रों का फैसला करने वाली सर्वाेच्च निकाय है। विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष जुहैल केपी ने छात्रों को संबोधित किया और वेमुला की मृत्यु के बाद परिसर में हाल में हुए घटनाक्रमों की उन्हें जानकारी दी। यूजीबीएम में मौजूद सभी छात्रों से राय मांगी गई।

विज्ञप्ति में बताया गया कि विश्वविद्यालय के कुलपति अप्पा राव के कुलपति पद से इस्तीफे या उन्हें हटाने की मांग को लेकर एक प्रस्ताव मतदान के जरिए पारित किया गया। इस प्रस्ताव के पक्ष में 948 छात्रों ने मतदान किया, जबकि एक छात्र ने इस पर आपत्ति जताई। हैदराबाद विश्वविद्यालय में दलित शोध छात्र की आत्महत्या के मामले पर छिटपुट प्रदर्शन देखने को मिला है। छात्रों ने अप्पा राव को कुलपति पद से हटाने की मांग की है। अप्पा राव के खिलाफ इससे पहले अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति (अत्याचार रोकथाम अधिनियम) और वेमुला को आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया गया था।

छात्र संघ ने 30 मार्च को विश्वविद्यालय से संबंधित मुद्दों के समाधान के लिए राष्ट्रपति से हस्तक्षेप करने और अप्पा राव की बर्खास्तगी सुनिश्चित करने की मांग की थी। इस बीच, यूजीबीएम द्वारा सर्वसम्मति से पारित अन्य प्रस्तावों में विश्वविद्यालय की नाकेबंदी वापस लेने, परिसर के सैन्यीकरण के खिलाफ और उच्च शिक्षण संस्थानों में पूर्वग्रह और भेदभाव के खिलाफ एक समिति गठित करने की मांग शामिल थी।

एक अन्य प्रस्ताव एचसीयू के छात्रों और शिक्षकों के खिलाफ दर्ज सभी पुलिस मामले वापस लेने की मांग को लेकर था, जिसे सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया। हैदराबाद हाई कोर्ट ने मंगलवार को एचसीयू के रजिस्ट्रार और साइबराबाद पुलिस आयुक्त को किसी भी राजनीतिक दल या संगठन को विश्वविद्यालय के भीतर बैठक करने की अनुमति नहीं देने का निर्देश दिया था। एचसीयू 17 जनवरी को वेमुला के आत्महत्या करने और हाल में कुलपति अप्पा राव पोडिले के काम पर वापस लौटने के बाद से ही विवादों के केंद्र में है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मध्यप्रदेश: अश्लील हरकत करने के आरोप में शिक्षक गिरफ्तार
2 सीएम ओमन चांडी का केंद्र से अनुरोध- ‘कोल्लम मंदिर की आग त्रासदी को घोषित करें राष्ट्रीय आपदा’
3 उत्तर प्रदेश: सामूहिक बलात्कार मामले में सपा नेता गिरफ्तार
ये पढ़ा क्या?
X