ताज़ा खबर
 

एंकर ने AAP सांसद से पूछा- केजरीवाल ने किसानों के प्यार में बिल फाड़ा या अमरिंदर सिंह के तनाव में? मिला जवाब

आंदोलनकारी किसानों के साथ एकजुटता दिखाते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को विधानसभा में केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों की प्रतियां फाड़ दीं।

आप सांसद संजय सिंह। (फाइल फोटो)

आज तक पर टीवी डिबेट के दौरान एंकर रोहित सरदाना ने AAP सांसद संजय सिंह से पूछा, ‘किसानों के प्रेम में दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने आज बिल फाड़ा है या फिर पंजाब सीएम अमरिंदर सिंह के तनाव में?’ इस पर AAP नेता संजय सिंह ने कहा कि इस कानून का विरोध हम पहले दिन से कर रहे हैं। संसद में जब ये बिल आया था और देश में इतना बड़ा आंदोलन भी शुरू नहीं हुआ था। उस वक्त भी आम आदमी पार्टी ने संसद में इस बिल का विरोध किया था। बिल के चक्कर में मुझे सस्पेंड भी होना पड़ा था। बीजेपी रो रही थी कि संजय सिंह ने माइक तोड़ दिया। हमें शुरू से पता था कि ये देश के किसानों के लिए काला कानून है। किसानों का डेथ वारंट निकालने का काम सरकार ने किया है।

संजय सिंह ने कहा कि अगर ये कानून देश में लागू हो गया तो देश का किसान बर्बाद हो जाएगा। कॉन्ट्रैक्ट खेती से लेकर असीमित भंडारण तक सब देश के लिए खतरनाक है। कानून में एमएसपी की गारंटी नहीं है। मंडी सिस्टम के लिए ये खतरा है। असीमित भंडारण से देश में महंगाई बढ़ेगी। कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग लागू की जाएगी तो अपने ही खते में किसान गुलाम बनकर रह जाएगा। इसलिए पहले दिन से हम इस कानून का विरोध कर रहे हैं। किसी तरह की रस्म अदायगी के लिए बिल नहीं फाड़ा गया है।

एंकर ने पूछा कि आपकी सरकार ने सबसे पहले कृषि कानून को लागू किया तो अब ये विरोध क्यों?’ इस पर संजय सिंह ने कहा कि केंद्र कानून सरकार है तो बदलाव भा केंद्र ही करेगा। किसानों की मांग के हिसाब से सरकार कानून में बदलाव कर सकती है। केंद्र सरकार सबसे पहले इस कानून के लिए अध्यादेश लाई। महामारी के दौरान इसे अध्यादेश के रूप में लाया गया इसकी इतनी क्या जल्दी थी।

बता दें कि आंदोलनकारी किसानों के साथ एकजुटता दिखाते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को विधानसभा में केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों की प्रतियां फाड़ दीं। AAP सरकार ने दिल्ली विधानसभा में एक प्रस्ताव भी पारित किया जिसमें कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग की गई थी।

दिल्ली विधानसभा को संबोधित करते हुए, केजरीवाल ने आरोप लगाया कि कानून “भाजपा के चुनावी फंडिंग के लिए बनाए गए हैं न कि किसानों के लिए”। केजरीवाल ने कहा, “मुझे दर्द हो रहा है कि मुझे ऐसा करना पड़ रहा है। मेरा इरादा नहीं था, लेकिन मैं अपने देश के किसानों को धोखा नहीं दे सकता जो ठंड में सड़कों पर सो रहे हैं, जब तापमान सिर्फ 2 डिग्री सेल्सियस है। ”

Next Stories
1 ‘Savdhaan India’ का एक्टर पुलिस बनकर ऐंठता था पैसे, पुलिस ने पकड़ा
2 किसान आंदोलनः दिल्ली में शीतलहर के बीच एक और किसान की मौत, अब तक 20 से अधिक प्रदर्शनकारी जान गंवा चुके हैं
3 कटाई-ढुलाई भी पड़ा महँगा, एक रुपया किलो मिला गोभी का भाव, किसान ने रौंद दी फसल
ये पढ़ा क्या?
X