ताज़ा खबर
 

गुड़गांव में बदमाशों का खौफ, कैब में बैठने के बाद कहते हैं- पैसे नहीं दिए तो पैर तोड़ देंगे, आंख फोड़ देंगे

गुड़गांव में कैब में लिफ्ट देकर लूटपाट की वारदातें बढ़ती ही जा रही हैं। बदमाश न केवल कैश लूट रहे हैं बल्कि पैसे न देने पर अपंग करने की भी धमकियां दी जा रही हैं।

वारदात का प्रतीकात्मक फोटो, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

गुड़गांव में कैब में लिफ्ट देकर लूटपाट की वारदातें बढ़ती ही जा रही हैं। बदमाश न केवल कैश लूट रहे हैं बल्कि पैसे न देने पर अपंग करने की भी धमकियां दी जा रही हैं। पैसे न देने पर आंखें फोड़ना, किडनी बेचने और टांग तोड़ने जैसी धमकियां दी जा रही हैं। ऐसी ही एक वारदात मंगलवार को सामने आई जिसकी जांच में पता लगा है कि शहर में दो गैंग एक्टिव हैं। पुलिस के मुताबिक मेवात या पलवल के गिरोह ही इस तरह की वारदात को अंजाम देते हैं। वहीं एक गिरोह के गुर्गे तो कार में बकायदा महिला और बच्चे को लेकर चलते हैं, ताकि किसी को शक न हो। पुलिस ने बताया कि जनवरी से अभी तक ये गैंग करीब 70 वारदातों को अंजाम दे चुके हैं। इस गैंग के एक गुर्गे को क्राइम ब्रांच ने अरेस्ट भी किया था लेकिन गिरोह का पर्दाफाश नहीं हो सका।

टांग तोड़ने की धमकी
पुलिस ने बताया कि पिछले दो महीनों के दौरान हुई घटनाओं में से कुछ बदमाशों ने रुपए न देने पर किडनी और आंखें निकालने के अलावा टांग तोड़ने की धमकी दी। इसके साथ ही पीड़ितों के बयान से पुलिस को लगता है कि ये बदमाश मेवात की तरफ के हो सकते हैं।

महिला भी हैं गैंग में शामिल
क्राइम ब्रांच के एक इंस्पेक्टर ने बताया कि हाल ही में जो वारदातें हुई हैं उनके तरीकों में थोड़ा सा बदलाव हुआ है। बतौर पीड़ित उसको इफ्को चौके के पास से कैब में बैठा। कैब में पीड़ित के अलावा एक महिला गोद में बच्चा लेकर बैठी थीं।वहीं पिछली सीट पर एक भी युवक बैठा था। उस कैब में युवक के साथ लूटपाट हुई। पुलिस का कहना है कि ये गिरोह पलवल के आसपास का हो सकता है।

लिफ्ट की जगहें हैं फिक्स
पुलिस का कहना है कि इन बदमाशों की लिफ्ट देनें की जगह फिक्स है। एक्सप्रेसवे पर हीरो होंडा चौक, राजीव चौक, इफ्को चौक, एटलस चौक और शंकर चौक से कैब में सवारियों को लिफ्ट दी जाती है। लिफ्ट देकर बदमाश शंकर चौक से वापस गुड़गांव की ओर ही यू टर्न ले लेते हैं। कभी बहाना सीएनजी का होता है तो कभी सवारी लेने का। जिसके बाद सोहना रोड के आसपास इलाके में कैब घूमाकर लूटपाट की जाती है।

हत्या भी हो चुकी है
बता दें कि 16 दिसंबर 2017 की रात गुड़गांव बस स्टैण्ड से हरिद्वार के लिए निकले निजी कंपनी कर्मचारी सुनील भट्ट की हत्या कर दी गई थी। उनका शव दिल्ली के महिपालपुर में बरामाद हुआ था। पीड़ित ने शक होने पर मोबाइल से पत्नी को मैसेज भी किया था, लेकिन बाद में मोबाइल ऑफ हो गया था। दिल्ली पुलिस ने चार बदमाशों को गिरफ्तार किया था जो तिहाड़ जेल में बंद हैं।

 

फरवरी से ये हुई हैं वारदातें
– 16 फरवरी को लिफ्ट देकर 1 लाख 22 हजार 500 रुपए लूटे
– 13 मार्च कैब में बैठाकर चार बदमाशों ने की थी लूटपाट
– 16 मई को युवक से रुपए नहीं मिले तो चाचा को कॉल कर मंगवाए थे 50 हजार। लेकिन 20 हजार ही मिलने पर पीड़ित के पैरे में गोली मार दी थी।
– 18 मई की रात एक मैनेजर को लिफ्ट देकर सोने की चेन, लैपटॉप, मोबाइल लूटे। कार्ड के पिनकोड पूछकर 1 लाख 8 हजार निकाले गए।
– 25 जुलाई की रात कॉल सेंटर कर्मी को कैब में बैठा कर मारपीट की थी, मोबाइल, 2 हजार नकद और क्रेडिट कार्ड लूट लिए।
– 24 सितंबर की रात इफ्को चौक से लिफ्ट देकर एटीएम कार्ड का कोड पूछ खातों से 47 हजरा रुपए निकाले गए
– 2 नवंबर की रात सदन थाना एरिया में लिफ्ट देकर एटीएम कार्ड लूटे और पिनकोड पूछ कर 53 हजार लूटे।
– 15 नवंबर की रात दिल्ली के धौला कुआं से लिफ्ट देकर गुड़गांव में लूटपाट की गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App